UP में फिर मैदान मार ले जायेंगे मोदी ! बुआ-बबुआ की ज़मानत होगी जब्त ! कांग्रेस का नहीं खुलेगा खाता !


लोकसभा चुनाव नज़दीक आ रहे हैं और क्रिकेट वर्ल्ड कप भी ! क्रिकेट की दुनिया में कौन बाजी मरनेवाला हैं यह बात किसी को नहीं पता किन्तु राजनीती की दुनिया में आगामी लोकसभा चुनाव में मोदी फिर से सभी विपक्षी पार्टियों की नईया डूबा देंगे। सीधे शब्दों में कहे तो उनकी ज़मानत ही जब्त हो जायेगे। 2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी को यूपी में सबसे अधिक सीटें मिली थीं। सपा 5, कांग्रेस 2 और बीएसपी का तो खाता भी नहीं खुल सका था।

महागठबंधन में तो वैसे प्रधानमंत्री पद के कई उम्मीदवार हैं राहुल को नज़रअन्दाज़ करते हुए दीदी ने भी कोलकाता रैली में हुंकार भर दी थीं की पीएम की असली उम्मीदवार वही हैं। सबसे बड़ी हैरानी की बात तो यह हैं की जिन मायावती की पार्टी बसपा का २०१४ लोकसभा चुनाव में पूरा किला ही ध्वस्त हो गया था उन्हें भी इस बात का पूरा विश्वास हैं की उनके सर पर प्रधानमंत्री का ताज धार दिया जायेगा।

एक वक्त बहन मायावती की इज्जत पर हाथ डालनेवाले सपाई इस वक्त उनकी बुआ बन गयी हैं। सपा-बसपा हाथ मिला चुके हैं कांग्रेस को हड्डी के नाम पर सिर्फ कबड्डी खेलने के लिए महज दो सीटें छोड़ दी गयी हैं। गोरखपुर, फूलपुर और कैराना में जीत के बाद इन पार्टियों का आत्मविश्वास सातवें आसमान पर हैं।हालाँकि कांग्रेस ने राहुल गाँधी के नेतृत्व में तीन राज्य मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जीत हांसिल कर ली हैं। किन्तु यह कांटें की टक्कर थीं अंततः उन्हें बसपा जैसी छोटी पार्टी का भी समर्थन लेकर सरकार बनानी पडी जिसपर कभी भी गिरने के तलवार लटकी हुयी हैं।

जबसे राहुल गाँधी कांग्रेस पार्टी के प्रेजिडेंट बने हैं तब से लेकर आज तक वो सिर्फ हार का ही सामना कर रहे हैं। ऐसा लग रहा हैं उनपर राजनीती जबरन थोपी जा रही हैं। सोनिया गाँधी की बीमारी और राहुल गाँधी के कमज़ोर नेतृत्व के चलते एक बार फिर से प्रियंका गाँधी को मैदान में उतार दिया गया हैं उन्हें कांग्रेस उत्तरप्रदेश का महासचिव बना दिया गया हैं। उनके पति रॉबर्ट वाड्रा पर पहले ही कई तरह के केस चल रहे हैं जिसमे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ बीकानेर लैंड डील मामले पर समन जारी किया है।

सर्वे के मुताबिक अगर कांग्रेस-सपा और बसपा साथ भी चुनाव लड़ें तो ये सभी मिलकर बीजीपी को किसी भी सूरत में हरा नहीं पाएंगे। तीन तज्यों में कांग्रेस के चुनाव जीतने का सबसे अहम् हिस्सा रहा था NOTA जिसने बीजेपी को सोचने के लिए मज़बूर कर दिया। अब मोदी जी ने सवर्णों को भी १० फीसदी का आरक्षण देकर नहले पे दहला मार दिया हैं।

बीजेपी का वोट शेयर 2014 में 43.3 फीसदी था जो इस बात 2019 लोकसभा चुनाव में बढ़ जायेगा. हालाँकि इस बार बीजेपी को थोड़ी हानि हो सकती हैं लेकिन वो महज २-३ सीट की ही होगी। बीजेपी को लोकसभा में इस बार ३०० से भी अधिक सीटें मिलने का अनुमान हैं।

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
1
win

You may also like

More From: Politics

DON'T MISS