प्यार वाले दिन पैदा हुयी यह अभिनेत्री ज़िंदगी भर प्यार के लिए तरसी थीं ! हुयी थीं दर्दनाक मौत, जाने कौन ?


आज पूरी दुनिया वैलेंटाइन डे मना रहा हैं यानी प्यार का दिन लेकिन एक ऐसी अदाकारा थीं जो इसी दिन पैदा हुयी थीं लेकिन पूरी ज़िंदगी सच्चे प्यार के लिए तरस गयी थीं | हम बात कर रहे हाँ मधुबाला की जिनका जन्म 14 फरवरी, 1933 को हुआ था | उनकी ज़िंदगी में दो लोग आये लेकिन दोनों ने उन्हें छोड़ दिया था |

एक इंटरव्यू में मधुबाला की बहन ने कहा था की दिलीप कुमार से उनकी सगाई हुए थीं लेकिन अफवाह यह उडी की मधुबाला के पिता के कहने पर ही मधुबाला ने दिलीप कुमार से रिश्ता तोड़ दिया था | लेकिन सच यह हैं की उस वक बी. आर. चोपड़ा की फिल्म ‘नया दौर’ की शूटिंग चल रही थीं जिसमे ग्वालियर के एक हिस्से में शूटिंग होनी थीं और वो इलाका डकैतों से भरा था |

जब यह बात मधुबाला के पिता को पता चली तो उन्होंने शूटिंग की जगह बदलने के लिए कहा गया लेकिन फिल्म मेकर्स ने ऐसा नहीं किया उलटे दिलीप कुमार से कहा गया की आप मधुबाला को मनाये लेकिन इस कोशिश में दिलीप कुमार फ़ैल हो गए क्यूंकि मधुबाला ने शर्त राखी की आप मेरे पिताजी से माफ़ी मांगे तब उसके बाद बात करना और यहीं से दोनों का रिश्ता टॉट गया |

बाद में बी. आर. चोपड़ा ने मधुबाला के ऊपर केस कर दिया जो एक साल तक चला था | वही उनकी बहन का कहना हैं की दिलीप कुमार ने तो धोखा दिया ही था | किशोर कुमार से शादी करने के बाद भी मधुबाला को किशोर ने छोड़ दिया था |

मधुबाला पहली भारतीय एक्ट्रेस थीं जिन्होंने बॉलीवुड के साथ हॉलीवुड में धमाल कर रखा था। एक समय की बात हैं जब मधुबाला को अमेरिकी पत्रिका थिएटर आर्ट्स ने इनवाइट किया था। इस मैगजीन में मधुबाला पर फुल पेज आर्टिकल निकला था। आर्टिकल का टाइटल था- ‘The Biggest Star in the World’।

मधुबाला की ज़िंदगी में उनके पिता ने हमेशा ही टांग अड़ाया था उनका असली नाम मुमताज जहां बेगम था | मधुबाला 11 भाई-बहनों में से पांचवें नंबर की थीं | यहाँ तक की उनकी एक रिश्तेदार ने भविष्यवाणी की थीं की ये लड़की नाम, दौलत, इज्जत सब कुछ कमाएगी लेकिन इसकी जिंदगी में कभी खुशियां नहीं आएंगी।

मधुबाला की तुलना हॉलीवुड हीरोइन मार्लिन मुनरो से की जाती है |वो इतनी खूबसूरत थीं की हर कोई उनपर फ़िदा हो जाता था | लेकिन उनके जीवन में जितनी भविष्यवाणी हुयी थीं वो सच थीं यहाँ तक की काम उम्र में मौत भी |

मधुबाला ने 1942 में फिल्म ‘बसंत’ से बतौर चाइल्ड एक्टर अपना करियर शुरू किया था। 10 साल बाद 1952 में फिल्म ‘बहुत दिन हुए’ की शूटिंग के दौरान उन्हें पता चला कि उनके दिल में छेद है। उनके शरीर में एक नहीं कई बीमारियों ने घर बाना लिया था यहाँ तक की उनके खून की सफाई और सां तक की समस्या थीं |

माधबाला लागबहग ९ साल तक बिस्तर पर पडी रहीं और मरने के समय वो महज हड्डियों का ढांचा बन कर रह गयी थीं | किशोर कुमार पति होते हुए भी महीने में सिर्फ एक बार मिलने आते थे यहाँ तक की मधुबाला को मारने तक का आरोप उनपर अलग था | माधबाला जितनी खूबसूरत थीं उससे कहीं ज़ायदा उन्हें दुख, तकलीफ, दर्द, और बीमारी को लेकर इस दुनिया से जाना पड़ा था |

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Bollywood Stories

DON'T MISS