BIG BREAKING : सुशांत सिंह राजपूत केस में महाराष्ट्र के गृहमंत्री का कबूलनामा


वो कहते ना सच को कितना भी छुपाओ वो कहीं ना कहीं से बाहर निकल ही आता हैं. सुशांत सिंह राजपूत की मौत को शुरुवात से ही ये बताया गया की सुशांत ने आत्महत्या की हैं. लेकिन सुशांत के साथ ऐसा क्यों हुआ ये किसी ने पता लगाने की कोशिश नहीं की. वो एक्टर जो हर मायने में सफल था. जिसे बॉलीवुड के कुछ फिल्मकार और कलाकारों ने इग्नोर किया फिर भी वो अपने काम में लगा रहा.

बॉलीवुड के कुछ सो कॉल्ड बड़े बड़े सेलिब्रिटी सुशांत की मौत के तुरंत बाद ही इंस्टाग्राम पर वीडियो बनाकर ये बात कहने लगे की अगर डिप्रेशन में हो तो मुझसे बाते करो. आत्महत्या ना करो. जबकि ज्ञान देनेवाले खुद ही एक नंबर चरसी और नशेड़ी निकले.

अब नितेश राणे ने एक वीडियो ट्वीट किया हैं जो की महाराष्ट्र असेम्बली का हैं. जिसमे महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ये कहते हुए दिखाई पड़ रहे हैं की सुशांत सिंह राजपूत की ह्त्या हुई थीं. जिस पर नितेश राणे ने लिखा फाइनली महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने असेम्बली में ये बात एक्सेप्ट कर ली की सुशांत की हत्या हुयी थीं. क्या और भी सबूत की ज़रूरत हैं.

तो सवाल ये हैं की अनिल देशमुख की जुबां से ये बात जाने अनजाने में निकल आयी. या फिर इसके पीछे की कोई बड़ी वजह हैं जो जानभूझकर बात निकली गयी. क्यूंकि अनिल देशमुख आते हैं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से. तो क्या मनसुख हिरेन की संदिघ्द मौत के बाद महाराष्ट्र सरकार पर जो सवाल उठ रहे हैं. जिस सचिन वझे ने अर्नब को उनके घर से गिरफ्तार किया था. जिसका ट्रांसफर अब किया जा चुका हैं. क्या इन सभी से ध्यान हटाने के लिए सुशांत का नाम लिया गया.

या फिर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी पीछे हटकर कोई बड़ा खेल करना चाहती हैं. अनिल देशमुख ने जो बात कहीं सुशांत को लेकर इसमें ज़्यादा खुश होने की ज़रूरत नहीं हैं. क्यूंकि वो एक नेता हैं कल को ये बात बोल सकते हैं की मेयर ज़ुबान फिसल गयी थीं. मेरा ऐसा कोई मकसद नहीं था और फिर मामला शांत.

सवाल इस वजह से भी उठ रहा हैं की जिस सुशांत सिंह राजपूत की मौत पैर इतना हंगामा हुआ. हमारी मीडिया ने जमकर टीआरपी बटोरी. उसी मीडिया ने अब तक अनिल देशमुख की इस बात पर कोई हंगामा नहीं किया और ना ही कोई खबर दिखाई. बल्कि हमारी मीडिया ममता बनर्जी की टांग कैसी टूटी. क्यों टूटी. टूटी हैं की नहीं टूटी ? फेवीक्विक से जुड़ेगी या प्लास्टर से जुड़ेगी? या फि अम्बुजा सीमेंट लगाना होगा. जैसी बीन मतलब की न्यूज़ को दिखाने का काम कर रही हैं.

और अनिल देशमुख ने ये बात अब कहीं हैं तो इसे अब क्यों कहा. उस वक्त क्यों नहीं कहा. जब मुंबई पुलिस की जांच चल रही थीं.इतने दिन तक छुपाने का क्या मतलब हैं. सोशल मीडिया पर भी कई सवाल उठाये जा रहे हैं की एक वक्त महाराष्ट्र में सिर्फ किसान आत्महत्या करते थे लेकिन अब बॉलीवुड के लोग कर रहे हैं. बिजनेसमैन कर रहे हैं. बस ड्राइवर कर रहा हैं जिसे अपनी सैलरी नहीं मिली थीं. और जितनी मौत हो रही हैं उसे तुरंत आत्महत्या ही क्यों घोषित किया जा रहा हैं.

अनिल देशमुख ने जो कहा उस पर अब कुछ होता है या नहीं होता. क्या सीबीआई इस बात को ध्यान में रखकर आगे की जांच करती है या नहीं ? ये सब आगे ही पता चलेगा.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
1
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS