चमचों से घिरे रहते हैं सलमान. हीरो के तौर पर करियर खत्म. 50 रूपये में बीक रही राधे


सलमान का फ़िल्मी करियर एक हीरो के रूप में खत्म हो चुका हैं ये बात एक नहीं सौ बार कहीं होगी. लेकिन सलमान के फैंस है की मानते ही नहीं. क्यूंकि सलमान के करीब में जो लोग हैं वो एक से बढ़कर एक चमचे किस्म के हैं. जो दिन रात अपने भाईजान को चने के झाड़ पर चढ़ाते रहते हैं.

भाई अभी तो तुम पचीस के लग रेले हो. अभी तुम्हरा बॉडी एकदम अंडरटेकर के माफिक हो गयला हैं. तुम एक पंच मारेगा ना अख्खी बिल्डिंग गिरा सकता हैं और पब्लिक को लगेंगा की भूकंप आयला हैं. भाई तुम्हारे सामने तो सुपरमैन, स्पिडरमैन, आयरन मैन सब के सब पानी भरते हैं वो भी पिलास्टिक की बाल्टी लेकर.

तो ऐसे ही लोग घिरे हैं सलमान के आसपास. इस जुगाड़ में की भाई या तो नोटों की गद्दी उनकी तरफ हड्डी की तरह फेंक देंगे या फिर किसी फिल्म में काम दे देंगे. लेकिन ये लोग भाई की बुराई नहीं करेंगे.

आपको जानकार बड़ी हैरानी होगी की सलमान की फिल्म को पचास पचास रूपये में बेचा जा रहा हैं. मैं कहता हूँ की जो लोग पचास रूपये में राधे को बेच रहे हैं उनके ऊपर देशद्रोह का मुकदमा करना चाहिए. बताओं जिस फिल्म को लोग फ्री में नहीं देख रहे ये बन्दा अपनी मेहनत की कमाई के पचास रूपये बरबड़ कर रहा हैं.

अब एक ट्रेड एक्सपर्ट हैं उन्होंने क्या कहा वो सुनोगे तो हैरान रह जाओगे. ट्रेड एक्सपर्ट आमोद मेहरा ने कहा, ‘सलमान फिल्ममेकिंग के हर पॉइंट पर बैठते हैं। वे तय करते हैं कि फिल्म में कौनसी डांस स्टेप होनी चाहिए। वे तय करते हैं कि फिल्म में कौनसा म्यूजिक बजना चाहिए। वे डायरेक्शन में दखलंदाजी देते हैं और खुद को बहुत बड़ा समझते हैं। वे फिल्म में हर चीज तय करते हैं। सलमान चमचों, अपनी फैमिली और फ्रेंड्स से घिरे रहते हैं। हकीकत में उनका कोई सच्चा दोस्त नहीं है, जो उन्हें यह कह सके कि उनकी फिल्म में क्या सही है और क्या गलत है।”

मेहरा ने आगे कहा “अमिताभ बच्चन उस वक्त 50 की उम्र पार कर चुके थे, जब उन्होंने दलेर मेहंदी के साथ ‘ऐश करोगे’ में डांस किया था और फिल्म ‘मृत्युदाता’ की थी। वे बूढ़े दिख रहे थे और युवा बच्चन की तरह एक्टिंग करने की कोशिश कर रहे थे। बॉक्स ऑफिस पर उन्हें नामंजूर कर दिया गया। उनकी एक के बाद एक तीन फिल्में फ्लॉप हुईं। तब उन्हें समझ आया कि बतौर हीरो वे खत्म हो चुके हैं। फिर वे यश चोपड़ा के पास गए और एक एक्टर के तौर पर खुद को ‘मोहब्बतें’ से री-इन्वेंट किया।”

सलमान खान के करियर को लेकर मेहरा ने कहा, “मैं यह नहीं कहता कि सलमान का करियर खत्म हो गया है। बल्कि मेरा मतलब यह है कि बतौर हीरो सलमान का करियर खत्म हो गया है। उन्हें सपोर्टिंग रोल करने चाहिए। उन्हें खुद को री-इन्वेंट करना चाहिए।”

लेकिन सच ये हैं की सलमान खुद को हीरो बनाये या साइड हीरो या री-इन्वेंट कर लें. जैसे एक वायरस शरीर में घुस जाएं तो आदमी बीमार हो जाता हैं ठीक वैसे ही अगर सलमान किसी फिल्म में साइड हीरो भी बनते हैं तो वो फिल्म फ्लॉप होनी तय हैं.

 

What's Your Reaction?

hate hate
1
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Entertainment

DON'T MISS