रील हीरो और रियल हीरो ये होता हैं…रील हीरो पैसे कमाता हैं और रियल जान बचाता हैं.


एक कहावत हैं की जो दिखता हैं वो बिकता हैं. लेकिन बिकनेवाला सामान कितना नकली हैं ये खरीदने वाला समझ ही नहीं पाता हैं. बचपन में जब हम आमिर खान को इस तरह से रेल की पटरियों पर भाते देखते थे तो एक ही बात मुँह से निकलती थीं. माँ कसम क्या दौड़ा हैं. क्या छलांग लगाई हैं. कसम से दिल जीत लिए भाई ने तो.

फिर कुछ साल पहले सलमान खान को फिल्म किक में ये वाला सीन करते देखा. लेकिन तब तक समझ आ चुकी थीं की भाई ये क्या झोलझाल हैं. हालाँकि आज भी बहुत से लोगो को ये सीन रियल ही लगता हैं.

अजय देवगन के इस सीन को देखो. क्या ये पॉसिबल हैं. बिलकुल नहीं. लेकिन नहीं अजय देवगन हैं तो भाई किया ही होगा. अच्छा आदमी. सॉलिड एक्टर हैं.

रा वन में शाहरुख़ खान ने भी क्या गज़ब के स्टंट किये हैं. इस ट्रेन से उस ट्रेन. लेकिन सब VFX का कमाल हैं.

लेकिन इन्ही सीन को सच मानकर हमारे देश के वो लोग जो खुद को सलमान खान और शाहरुख़ खान से कम नहीं समझते वो लोग भी ऐसे ही सीन ट्राय करते हैं. और होता क्या हैं ? किसी की टांग टूट जातीं हैं किसी का सर फटता हैं तो कोई दुनिया से ही निकल जाता हैं.

लेकिन हमारे बीच में हम आम इंसानों के बीच में सही मायने में रियल हीरो हैं. जो अपनी जान पर खेलकर किसी की जान को बचते हैं. कुछ दिन पहले आपने देखा होगा की एक माँ अपने बच्ची के साथ प्लॅटफॉम से जा रही थीं. माँ आँखों से देख नहीं सकती थीं इसी दौरान वो बच्चा ट्रैक पर गिर जाता हैं. सामने से ट्रैन आ रही थीं लेकिन मयूर शेलके नाम के एक जाबांज़ ने अपनी जान पर खेलकर उस बच्चे को बचाया.

रेलवे ने जो इनाम के पैसे दिए थे पचास हज़ार वो भी मयूर ने उस औरत को दे दिए जिसका बच्चा ट्रैक पर गिरा था. हालाँकि उसके बाद भी जावा ने मयूर शेलके को बाइक गिफ्ट की. ये होते हैं असली हीरो जिनकी क़द्र हम सभी करते हैं. बस उनकी स्टोरी हम सभी के सामने आनी चाहिए.

वरना नकली हीरो को पीछे सेल्फी लेने के लिए जाओगे तो बदले में दो चार थप्पड़ ही नसीब होगा.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS