बजट २०१९ में इस नेता ने दिल जीता ! बजट बनाने में रहा अहम किरदार। जाने कौन हैं ये दिग्गज नेता


मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतरिम बजट अब देश के समक्ष प्रस्तुत हो चूका हैं। इस वर्ष के बजट में मध्यम वर्गीय परिवारों के साथ देश के विकास में अहम किरदार निभाने वाले धरती के पूत यानी किसानों का भी ध्यान रखा गया। सरल और साफ़ शब्दों में  कहें तो देश की जनता इस अंतरिम बजट से काफी खुश नज़र आ रहीं हैं किन्तु हर बार की तरह विरोधी खेमा हर संभव प्रयास में लगा हैं की मोदी सरकार को किस तरह से चौतरफा घेरा जाएं !

देश का बजट बनाना आसान कार्य नहीं होता हैं इसे बनाने के लिए एक बड़ी टीम की ज़रूरत होती हैं। वित्तमंत्री अरुण जेटली की तबियत बिगड़ जाने के वजह से इस बार रेलमंत्री का कार्यभार संभालने वाले पियूष गोयल ने लोकसभा में अंतरिम बजट पेश किया। इस बजट को बनाने में केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री शिवप्रताप शुक्ल का भी किरदार अहम रहा। मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा,’यह बजट मूल रूप से गरीब, मध्य वर्ग और किसानों का है।

उन्होंने कहा इस बजट के जरिए किसानों को ढेर सारी सौगातें मोदी सरकार ने दी हैं जिसमें सलाना छह हजार उनके खाते में जाएंगे जिससे उनकी बड़ी मदद होगी। मजदूरों के लिए 60 साल की उम्र के बाद तीन हजार रुपए मासिक पेंशन और महिलाओं के लिए 40 हजार रुपए तक के ब्याज पर कर की शत प्रतिशत छूट देकर सरकार ने बड़ा संदेश दिया है। इसके साथ ही आयकर सीमा को पांच लाख रुपए तक बढ़ाना एतिहासिक कदम है। बचत और बीमा के जरिए अब डेढ़ लाख रुपए तक की अतिरिक्त छूट पाई जा सकती है।

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री ने कहा कि यह बजट क्षेत्रीय आधार पर नहीं, सम्पूर्ण भारत को ध्यान में रखकर पेश किया है। देश भर के गरीब, मजदूर, किसान, महिलाएं, पेंशनर, नौकरीपेशा और समाज के सभी वर्गों के लोग इससे लाभान्वित होंगे। स्लैब 5 लाख तय किए जाने से तकरीबन 90 फीसदी नौकरीपेशा-मध्यवर्गीय लोग बाहर हो गए।

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री शिवप्रताप शुक्ल उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं। ग्रामीण विकास के लिए बनी संसद की स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य हैं। शिवप्रताप शुक्ल गोरखपुर विधानसभा सीट से 1989 से 1996 तक लगातार चार बार विधायक रह चुके हैं। यूपी सरकार में ही जेल मंत्रालय और ग्रामीण विकास मंत्रालय भी उन्होंने बखूबी संभाला हैं।

उन्होंने गोरखपुर विश्वविद्यालय से लॉ ग्रेजुएट किया हुआ हैं और शिक्षा के क्षेत्र में कई बेहतरीन कार्य किये हैं। शिक्षा के साथ जेल सुधार और ग्रामीण विकास के लिए कई योजनाएं भी शुरू कीं। उनका जन्म १ अप्रैल, १९५२ खजनी, रुद्रपुर, उत्तरप्रदेश में हुआ था जो गोरखपुर के समीप हैं।। ब्रह्मण परिवार से आनेवाले शिवप्रताप शुक्ल काफी सरल और सादगी से परिपूर्ण व्यक्तित्व के मालिक हैं।

शिवप्रताप ने 1970 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) से छात्र राजनीति की शुरुआत की थीं। आपातकाल के दौरान मीसा के तहत 19 महीने तक जेल में बंद रहे। 1981 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रांतीय सचिव बनाए गए। 2002 में यूपी बीजेपी के उपाध्यक्ष बनाए गए। उसके बाद से उपाध्यक्ष बने रहे थे।

Image 

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
1
love
lol lol
0
lol
omg omg
1
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Politics

DON'T MISS