इतनी सैलरी तो बॉलीवुड के एक्टर्स को भी नहीं मिलती, जितनी इन न्यूज़ एंकर्स की हैं !


एक दौर ऐसा भी था जब खबरे ढंग से दिखाई जाती थीं, सिर्फ दूरदर्शन ही सभी चीज़ों का सहारा था चाहे मनोरंजन की बात हो या फिर किसी सनसनी खबर की, लेकिन वक्त बदला और मनोरंजन की जगह ले ली नए – नए मीडिया चैनल्स ने जो खबरों को अपने हिसाब से तोड़ मरोड़कर जनता के सामने पेश कर देते हैं | अधिकतर मीडिया चैनल्स आज बड़े-बड़े कॉर्पोरेट्स और राजनीतिक पार्टियों के ग़ुलाम बन चुके हैं |

मीडिया आपको वही खबर दिखाती हैं जो उनके मालिक चाहते हैं ऐसे दौर में सोशल मीडिया ही आम जनता का सहारा था लेकिन राजनीतिक पार्टियां जब वहां भी जुड़ी तो गंदगी और रायता फैला दिया ! चलिए, फिलहाल हम बात खबरों की नहीं कर रहे हैं, हम आपको मीडिया चैनल्स के उन धुरंधर न्यूज़ एंकर्स के करनेवाले हैं जिनके दम पर उन मीडिया चैनल्स की शाख हैं |

arnab-goswami

हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ मशहूर न्यूज़ एंकर्स की सैलरी के बारे में जिसे जानकर आपको यकीन भी नहीं होगा, क्यूंकि इनकी सालाना कमाए किसी बॉलीवुड के कलाकार से काम नहीं हैं |

अर्नब गोस्वामी : टाइम्स नाउ समूह से काफी लम्बे समय तक जुड़े रहने के बाद साल २०१६ में उन्होंने टाइम्स ग्रुप छोड़ २०१७ में खुद की “रिपब्लिक टीवी’ न्यूज़ की शुरुवात कर ली हैं | टाइम्स नाउ में ‘न्यूज़ ऑवर’ के दौरान उनके तीखे सवालों का सामना करने में लोगो की हालत ख़राब हो जाती थीं | ‘फ्रैंकली स्पीकिंग विद अर्नब’ भी उनका सबसे वायरल शो था | २००३ में वो ‘बेस्ट प्रेसेंटर’ और न्यूज़ एंकर्स के लिए रनर उप रहे, असामीस ऑफ़ दी ईयर का अवार्ड न्यूज़ लाइव की तरफ से मिला, सोसाइटी यंग अचीवेरस अवार्ड्स, रामनथ गोयनक अवार्ड ‘ से नवाज़े जा चुके हैं | अर्नब गोश्वामी की सलाना सैलरी टाइम्स नाउ में काम करने के दौरान १२ करोड़ रूपए थे और अब तो उनकी खुद की ही न्यूज़ मीडिया हैं |

1

सुधीर चौधरी : साल १९९० से पत्रकारिता से जुड़े सुधीर चौधरी इस वक्त ज़ी न्यूज़ हिंदी और ज़ी न्यूज़ इंग्लिश से जुड़े हैं जहाँ वो “डेली न्यूज़ अनलयसिस’ और ‘वर्ल्ड इस वन न्यूज़’ को दिशा और दशा प्रदान करते हैं | ज़ी मीडिया से वो १९९३ से जुड़े हैं लेकिन साल २००३ में सहारा न्यूज़, फिर इंडिया टीवी और लाइव इंडिया से जुड़ने के बाद वो फिर से साल २०१२ ज़ी मीडिया से जड़ गए |

‘कारगिल युद्ध’ और ‘संसद पर हमले की न्यूज़ कवर करने के लिए उन्हें जाना जाता हैं | ‘रामनथ गोयनका अवार्ड्स से उन्हें सम्मानित किया जा चुका हैं | सुधीर चैधरी की सालाना सैलरी करीब 3 करोड़ रुपये है।

6

रविश कुमार : एनडीटीवी के एक और तेज़ तर्रार पत्रकार जो बिहार से आते हैं ‘हम लोग’ और ‘रविश की रिपोर्ट’ के लिए जाने जाते हैं | पत्रकारिता के लिए उन्हें “गणेश शंकर विद्यार्थी’ अवार्ड्स से भी नवाज़ा गया हैं | उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिए साल २०१३ और २०१७ में उन्हें “रामनाथ गोएन्का’ आवर्स से भी सम्मानित किया जा चुके हैं | ‘दी इंडियन एक्सप्रेस’ के १०० प्रभावशाली लोगो में साल २०१६ में उनका नाम जोड़ा गया | रविश कुमार की सालाना सैलरी ३ करोड़ रुपये हैं |

4

श्वेता सिंह : आज तक के शो ‘सौरव का सिक्सर’ के लिए श्वेता सिंह को जाना जाता हैं आज तक में वो एग्जीक्यूटिव एडिटर ऑफ़ स्पेशल प्रोग्रामिंग की हेड हैं | आज तक से जुड़ने से पहले वो ज़ी न्यूज़ और सहारा न्यूज़ में काम कर चुकी हैं | बॉलीवुड फिल्म ‘चक्रव्यूह’ में वो आज तक की न्यूज़ रिपोर्टर के तरु पर देखी जा चुकी हैं | श्वेता सिंह की सालाना सैलरी १ करोड़ रुपये हैं |

5

राजदीप सरदेसाई : इस वक्त वो इंडिया टुडे समूह से जुड़े हुए हैं उनके पिता दिलीप सरदेसाई भारतीय क्रिकेट टेस्ट टीम में थे | पत्रकार और लेखक सागरिका घोष उनकी पत्नी हैं | ‘दी टाइम्स ऑफ़ इंडिया’, ‘एनडीटीवी’, ‘न्यूज़ १८’, ‘चैनल ७’ के साथ कई न्यूज़ चैनल्स से जुड़ चुके हैं | ‘पदम् श्री’ और रामनाथ गोयनका अवार्ड’ से उन्हें सम्मानित किया जा चुका हैं | राजदीप सरदेसाई की सालाना सैलरी करीब 5 करोड़ रुपये है।

3

अंजना ओम कश्यप : अंजना इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़ी हैं उनका ‘हल्ला बोल’, ‘राजतिलक’, ‘दिल्ली के दिल में क्या हैं’, ‘बड़ी बहस’ और दो टूक’ काफी चर्चित हैं | जामिआ से पत्रकरिता की पढ़ाई करने के बाद वो दूरदर्शन के ‘आँखों देखी’ से जुड़ी फिर ज़ी न्यूज़, न्यूज़ २४, स्टार न्यूज़ के बाद वो आज तक से जुड़ी | बॉलीवुड फिल्म ‘टाइगर ज़िंदा हैं’ में भी वो एक न्यूज़ रीडर के तौर पर काम करते दिखाई पडी थीं | अंजना ओम कश्यप की सलाना सैलरी १ करोड़ रुपये हैं |

2

बरखा दत्त : पत्रकारिता में बरखा दत्त वो पुराना चावल हैं जिन्हे पता हैं की खबरे किस तरह से पकाई जाती हैं | कारगिल युद्ध के दौरान की उनकी ग्राउंड रिपोर्टिंग ने पूरे देश का ध्यान अपनी तरफ खींचा, लगभग २१ वर्ष तक बरखा ने एनडीटीवी के लिए काम किया, लेकिन जनवरी २०१७ में उन्होंने एनडीटीवी छोड़ दिया | सुनने में आया की वो खुद का न्यूज़ चैनल शुरू करनेवाली हैं लेकिन “दी क्विंट’ के साथ रिपोर्टिंग करते देखा गया |

अपने करियर में बरखा दत्त ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई अवार्ड जीते है, उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्य अवार्ड ‘पद्म श्री’ से भी नवाज़ा गया हैं | उनका ‘वी दी पीपल’ शो के लिया कई अवार्ड मिले | बात अगर सैलरी की करें तो बरखा दत्त को सालाना ३ करोड़ रुपये मिलते हैं |

6

नोट : सभी आंकड़े इंटरनेट से लिए गए हैं और साल २०१६ तक के हैं, इन न्यूज़ एंकर्स की सालाना सैलरी में फेरबदल भी हो सकता हैं ! इनमे अर्नब गोश्वामी “रिपब्लिक टीवी’ न्यूज़ के मालिक हैं |

Image


Like it? Share with your friends!

-9
164 shares, -9 points

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
1
confused
fail fail
1
fail
fun fun
2
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
2
love
lol lol
0
lol
omg omg
1
omg
win win
3
win

You may also like

More From: Read

DON'T MISS