किसान आंदोलन के नाम तिरंगे का अपमान लगे खालिस्तान के नारे


देश से बड़ा कोई नहीं होता. चाहे वो किसान हो या जवान. क्यूंकि इस देश की रक्षा के लिए इस देश का जवाब आपने जान की क़ुरबानी देकर सरहद पर खड़ा रहता हैं. इस देश के लिए जितना जवाब ज़रूरी हैं है उतना ही किसान. लेकिन किसान आंदोलन के नाम पर जो दिल्ली में हुआ वो किसी आतंकी घटना से कम नहीं था.

पंजाब के किसानो को बेवक़ूफ़ बनाकर इस देश का विपक्ष उन्हें दिल्ली तक लाता हैं. विदेशों से करोडो की फंडिंग करवाई जाती हैं. हर साल हम सुनते हैं की पंद्रह अगस्त और छब्बीस जनवरी के दिन सुरक्षा बढ़ा दी जाती हैं ताकि कोई अनहोनी घटना ना हो. पाकिस्तान हर साल ये कोशिश करता था. लेकिन इस बार उसे गज़ब का मौका मिला.

किसान आंदोलन को कांग्रेस ने पहले उकसाया. फिर भड़काया और अब कह रहे हैं की हिंसा किसी चीज़ का समाधान नहीं हैं. किसानों को बॉर्डर तक लाकर राहुल गाँधी इटली की यात्रा पर निकल जाते हैं. इन किसानों को ये तक नहीं पता की उनके कंधे को सीधी बनाकर विपक्ष और पाकिस्तान इसका भरपूर फायदा उठा रहा हैं. इस बहाने उसने खालिस्तानी आतंकवादियों को दिल्ली में घुसा दिया.

जिस तरह से कुछ देर पहले तक जहां पर ध्वजारोहण किया गया था उसी जगह पर खालिस्तानी आतंकियों ने अपना झंडा फहरा दिया. इस चीज़ को पाकिस्तान ने तुरत अपने ट्विटर अकाउंट पर दाल दिया. देखों इस चीज़ से भारत का कुछ नहीं बिगड़ेगा और ना ही मोदी का बिगड़ेगा. क्यूंकि जो चीज़ आज किसान आंदोलन के नाम पर हुयी उस चीज़ ने किसान आंदोलन की पूरी पोल खोल कर रख दी हैं.

पुलिस के जवानों पर तलवार चलाना, ट्रैक्टर चढाने की कोशिश करना. पत्थर चलाना. ये सब उकसाने वाला काम जानभूझकर किया गया. राकेश टिकैत जो इन किसानों का नेता बनकर बैठा उसने करोडो की संपत्ति इसी तरह बनाकर रखी हैं. कांग्रेस की तरफ से चुनाव भी लड़ा लेकिन बुरी तरह हार गया. कुछ दिन बाद देखना ये जबरदस्त नप जाएगा.

सीधे और साफ़ शब्दों में कहें तो किसान आंदोलन आज खत्म हो गया जिन लोगो को किसानों के प्रति थोड़ी बहुत सहानुभूति थीं वो भी खत्म हो गयी. और क्या सारी तकलीफ पंजाब के किसानों को ही हैं क्या देश के बाकी राज्यों में किसान नहीं हैं. जहा जहा कांग्रेस की सरकार है जिन राज्यों में वहा से इस आंदोलन को भड़काने की कोशिश की गयी.

अगर कांग्रेस को किसानों की इतनी ही चिंता हैं तो जब उनकी सरकार थी तब क्यों नहीं सोचा. हर रोज़ ये खबर मिलती हैं थीं की किसानो ने आत्मह्त्या कर ली हैं. तब देश में किसी को दर का माहौल नहीं लगता था. इसलिए भारत में मोदी ज़रूरी हैं. जिस तरह से शाहीन बाग़ के नाम पर दिल्ली में दंगा किया गया. हज़ारों लोग मारे गए. आम आदमी पार्टी का ताहिर हुसैन जिसने खुद कहा की मुझे हिन्दुओं से नफरत सी हो गयी थीं इसलिए दंगे करवाएं.

ये सब इस बात का सबूत की विपक्ष ये कभी नहीं चाहता की भारत तर्रकी करें वो इन चीज़ों में लोगो को उलझकर रखना चाहता हैं. लेकिन इन चीज़ों से मोदी और मजबूत हो रहे हैं. वैसे इस किसान आंदोलन को अब खत्म कर देना चाहिए. चाहे डंडे का इस्तेमाल करो चाहे कुछ भी. क्यूंकि किसानों को भड़ाकर उनका फायदा उठाया जा रहा हैं. पाकिस्तान, चाइना,खालिस्तानी आतंकी और हमारा विपक्ष ये सब मिलकर इस काम को पूरा कर रहे हैं.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
1
confused
fail fail
1
fail
fun fun
1
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Politics

DON'T MISS