Amitabh Bachchan ने मांग ली माफ़ी. एक कविता के लिए दूसरी Coroan Callertune के लिए


साल २०२० अमिताभ बच्चन के लिए दो वजह से कुछ ठीक नहीं रहा. पहली वजह थीं सुशांत सिंह राजपूत मामले में मौन धारण कर लेना और दूसरा सुशांत वाले मुद्दे को लेकर जब रविकिशन ने बॉलीवुड का दोहरा चरित्र बताया. ड्रग्स वाले मुद्दे की बात भी उठाई तब जाया बच्चन ने कहा था जो लोग जिस थाली में खाते हैं उसी में छेड़ करते हैं. अब इसके बाद अमिताभ बच्चन लोगो के निशाने पर आ गए. लेकिन मैं जिस मुद्दे की बात कर रहा हूँ वो थोड़ा अलग हैं.

अमिताभ बच्चन ने दो चीज़ो के लिए माफ़ी माँगी हैं. पहला कोरोना की कॉलर टून के लिए और दूसरा तिशा अग्रवाल की कविता को बिना क्रेडिट दिए अपनी सोशल अकाउंट पर शेयर करने के लिए. तो आते हैं पहले खबर पर.

तो अमिताभ बच्चन की एक फैन हैं जिनका हैं क्षमा त्रिपाठी उन्होंने अमिताभ से सवाल पुछा की कोरोना की कॉलर टून आखिर कब तक बंद होगी. इस पर अमिताभ बच्चन ने जवाब दिया की “त्रिपाठी जी आभार आपका. लेकिन वो कॉलर टून मेरा निर्णय नहीं हैं. मुझसे सरकार ने कहा, कोरोना काल के चलते, हम चाहते हैं की WHO की तरफ से एक केम्पेन के लिए ये शब्द बोल दीजिये. इसे हम एक वीडियो के रूप में पूरे देश में चलाएंगे. सो मैंने कर लिया. अब उन्होंने इसे कॉलर टून बना दिया. अब मैं क्या कर सकता हूँ? मैं देश, प्रांत और समाज के लिए जो भी करता हूं, वो निशुल्क करता हूं। आपको कष्ट हो रहा हो तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं, लेकिन ये विषय मेरे हाथों में नहीं है।”

इस कॉलर टून के लिए एक सिपाही ने भी अमिताभ को खूब कोसा था की जिसका पूरा परिवार ही कोरोना से पीड़ित था ऐसा इंसान हमें कोरोना से बचने की सलाह दे रहा हैं.

फिर आते हैं टीशा अग्रवाल की कविता पर जो चाय पर आधारित थीं जिसे अमिताभ बच्चन ने अपने सोशल अकाउंट पर शेयर किया था. जिसे देखने के बाद टीशा ने अपना दर्द बताया की इतने बड़े कलाकार ने मेरी कविता शेयर की लेकिन मुझे क्रेडिट नहीं दिया. सोशल मीडिया पर अमिताभ को #महानयक चोर हैं से नवाज़ा गया.

लेकिन अब अमिताभ बच्चन ने इस चीज़ के लिए भी माफ़ी मांग ली हैं. उन्होंने लिखा,”
टीशा जी, मुझे अभी अभी पता चला की एक ट्वीट जो मैंने छापा था वो आपकी कविता थी ।
मैं क्षमा प्रार्थी हूँ, मुझे ज्ञान नहीं था इसका ! मुझे किसी ने मेरे ट्विटर या मेरे व्हाट्स ऐप पर ये भेजा , मुझे अच्छा लगा ,और मैंने छाप दिया । माफ़ी चाहता हूँ.

खैर अंत भला तो सब भला लेकिन. अमिताभ पर सवाल तो अभी भी उठेगा ही की उनकी ही इंडस्ट्री का एक कलाकार सुशांत सिंह राजपूत इस दुनिया से चला जाता हैं लेकिन जो लोग उन्हें महानयक कहते हैं उस शक्श ने एक शब्द तक नहीं बोला. जिसके पूरे परिवार के कोरोना पीड़ित होने से पूरा देश दुआ मांगने लगा था.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
1
lol
omg omg
0
omg
win win
1
win

You may also like

More From: Entertainment

DON'T MISS