बीजेपी की कोरोना वैक्सीन नपुंषक बना देगी. अखिलेश ने कहा,”नहीं लेंगे. खुद की दवा बनाएंगे.


कोरोना वैक्सीन को लेकर तो पूरे देश में इस तरह से बवाल मचा हैं जैसे कोरोना की दवा नहीं राशन बंट रहा हैं. राजनीतिक मुद्दे को लेकर अगर राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे पर हमला करती हैं तो ठीक हैं. कोई बड़ी बात नहीं हैं और ना कोई नयी बात हैं. लेकिन कोरोना वैक्सीन को लेकर राजनीती करना कितने हद तक सही हैं.

कुछ दिन पहले कुछ इस्लामिक देशो में ये अफवाह फ़ैली की कोरोना की दवा में सुवर का मांस इस्तेमाल किया जा रहा हैं. दवा बनाने वाली कंपनियों ने कह दिया भाई ये सब अफवाह हैं. लेकिन अफवाह तो होती ही इसलिए हैं. ये तो किसी वायरस से भी ज़्यदा तेजी से फैलती हैं. और जब फैलती हैं तो देश का बड़ा गर्क कर देती हैं.

मेरे पार्टी के नेता ने बोला तो सही होगा. इनको पता हैं हमारा नेता हमारा काट रहा हैं लेकिन क्या करें चेतना भी तो ज़रूरी हैं. ये भी तो लोकतंत्र का हिस्सा हैं. अभिव्यक्ति की आज़ादी हैं का एक जीता जागता सबूत हैं. और आज़ादी के नाम पर हर कोई अपना रायता फैला रहा हैं.

अब भारत सरकार ने जैसे ही कहा की कोरोना वैक्सीन सभी भारतीयों को फ्री में दी जाएगी. बस यही से बवाल मचना शुरू हो गया. की सरकार फ्री में दे रही हैं मतलब हमारा वोट तो कट गया भाई.और यही सरकार जब कुछ दिन पहले बोल रही थीं की एक कोरोना वैक्सीन शायद 3000-4000 की पड़ सकती हैं. तब यही विपक्षी बोल रहे थे.

बताओं ये कोई बात हो गयी. कोरोना के चलते लोग बेरोजगार हो गए हैं लोगो के पास काम नहीं हैं.लोगो भूखों मर रहे हैं और ये निर्दयी सरकार गरीब जनता से पैसे मांग रही हैं. कोरोना वैक्सीन तो हर भारतीय का अधिकार हैं इसे फ्री में दिया जाना चाहिए. अब सरकार ने जैसे बोला फ्री है भाई.

तो हमारे अखिलेश भैया बोले हम तो लगवाएंगे ही नहीं. ये तो बीजेपी की कोरोना वैक्सीन हैं. हद है भैया. अच्छा ठीक हैं आपको लग रहा हैं की ये बीजेपी की हैं तो आप अपना समाजवादी पार्टी वाला कोरोना वैक्सीन बनवा लो. झंझट खत्म.

भाई इतने तक तो ठीक था अब समाजवादी पार्टी के एक नेता हैं आशुतोष सिन्‍हा उनका कहना हैं की अखिलेश भैया ने बोला हैं तो ठीक ही बोला होगा. इस सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता हैं. क्या पता जनसंख्या कम करने के लिए नपुसंक बना दें.

भैया हमारे देश का सिस्टम तो तुम्हारे जैसे नेताओं ने हर बात में टांग अड़ा अड़ा कर वैसे ही नपुसंक बना दिया हैं. ना कुछ करते हो और ना करने देते हों. ना बाल का पता ना खाल का लेकिन ज्ञान पूरे ब्रह्माण्ड का कहा से देते हैं ये लोग समझ ही नहीं आता.

तो भाई जिन लोगो को कोरोना वैक्सीन लगवानी होगी वो लगवायेगा. वरना मौत जब करीब आएगी तो उस वक्त कोई बोल देगा की ये ज़हर हैं इसे खा लो तो बीमारी दूर हो जाएगा तो भी खा लोगे भैया. तो आम जनता को भ्रमित मत करों. जितनी राजनीती करनी हैं करो. कोरोना के नाम पर मत करो. अगर इतना ही अच्छा काम अपनी सरकार रहते किया होता तो इस तरह की बातें बोलने का काम आज नहीं करना पड़ता.

और वैसे भी विपक्षी पार्टियां पिछले कई साल से यही कर रही हैं. सर्जिकल स्ट्राइक हो तो सेना पर सवाल कर दो की सबूत दो भैया कहा किया कैसे किया क्यों किया ? चीन से युद्ध हो तो क्यों किया ? चाइना से रिश्ते ख़राब क्यों कर रहे हो? अमेरिका से रिश्ते सुधरे तो क्यों बना रहे हो रिश्ते ? अमेरिका ऐसा हैं ट्रम्प वैसा हैं. हर बात में सिर्फ और सिर्फ रोना. और ये विपक्षी पार्टियां कम रुदाली पार्टियां कुछ ज़्यदा ही बन गयी हैं.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
1
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS