हर कोई वायरल क्यों होना चाहता हैं ? इंडिया में ये पागल पन क्यों हैं ?


इंसान इस दुनिया में क्यों आया हैं ? इस सवाल का सही जवाब आज तक नहीं मिल सका. इंसान पैदा होता. पढ़ाई करता हैं. शादी करता हैं. बच्चे होते हैं. बच्चे स्कूल जाते हैं. वो भी पढ़ते है फिर उनकी शादी उनका बच्चा. ये सिलसिला चलता रहता हैं. पैदा हुआ. ज़िंदगी भर पैसे कमाए, नाम कमाए और मर गए.

क्या लेकर आये थे कुछ नहीं क्या लेकर गए कुछ नहीं. अपना टाइम आएगा. तू नंगा ही तो आया हैं क्या घंटा लेकर जाएगा. नहीं भाई इंसान घंटा तक नहीं ले जा पाटा. चाहे वो बजनेवला घंटा हो या वो घंटा जिसे आप एक सभ्य सामान में उस नाम से बुला नहीं सकते तो उसका नाम दे दिया घंटा.

अपना टाइम आएगा. और जब आएगा तो चार लोग कंधे पर उठाएंगे. राम नाम सत्य बोलेंगे और तेरहवे दिन तुम्हारे नाम की पुरीया खाकर चले आएंगे वो भी शिकायत करते हुए की सब्जी में नमक बहुत ज़्यादा था. पूरी में तो इतना तेल था मानो सऊदी अरब से ही बनकर आयी हो. बताओ कोई खाना था ये अच्छा हुआ मर गया.

तो इस वीडियो की जो पहली लाइन थीं इंसान इस दुनिया में क्यों आया हैं ? इसका तो पता नहीं चला लेकिन आज डिजिटल दुनिया में हर इंसान वायरल ज़रूर होना चाहता हैं. सोशल मीडिया पर. हर कोई कहता हैं मै वायरल होना चाहता हूँ. लेकिन जब सच का वायरल होता है यानी बुखार. तब कहता हैं यार ये वायरल कब जाएगा.

कुछ लोग कांड करके वायरल होना चाहते हैं ताकि फॉलोवर्स मिले मीडिया में बने रहे. जैसे की जोमाटो वाली सूर्पनखा दीदी. या फिर लखनऊ वाली मंद बुद्धि प्रियदर्शिनी.

कुछ लोग बिना किसी प्लानिंग के वायरल हो जाते हैं और फिर उनकी ज़िंदगी में एकाएक आये शोहरत को संभाल नहीं पाते. जनता पहले इन जैसे लोगो को सर पर सीधी लगाकर चढाती थीं फिर नारियल का तेल लगाकर गिरा देती हैं. जैसे की बाबा का ढाबा… बाबा में दुनिया भर की नौटंकी हैं. राजनीती के हर दांव पेच जानते हैं और जब बात बिगड़ती हैं तो शराब पीकर हॉस्पिटल पहुंच जाते हैं.

दूसरी रानू मंडल. जिसे हमारे देश की मीडिया ने ये कह दिया था की ये तो लता मंगेशकर से भी आगे जाएगी. इतना आगे गयी की एक से बढ़कर एक फेंक खबर. की रानू मंडल करेगी सलमान खान से शादी. रानू मंडल को सलमान गिफ्ट करेंगे अपना पनवेल वाला फार्म हाउस. क्या हुआ गायब हो गयी.

कुछ लोग वायरल नहीं होना चाहते लेकिन क्राइम ब्रांच वाले कहते हैं की नहीं हम तुम्हे वायरल करेंगे. जैसे की राज कुंद्रा. वायरल होना चाहते थे नहीं ना. बंदा बिना कोई क्रेडिट लिए समाजसेवा का काम कर रहा था पुलिस ने कहा तुम तो समाजसेवक हो तुम्हारा वायरल होना बनता हैं.

अभी कुछ दिन पहले एक माँ अपने दस साल के बच्चे के साथ इंस्टाग्राम रील पर एक से बढ़कर एक गंदे वीडियो डाल रही थीं. वो भी वायरल हो गयी. लेकिन मेसेज क्या मिला यही ना की लोग वायरल होते है पैसे कमाने के लिए और उसके लिए किसी भी हद तक गिर सकते हैं.

धीरे धीरे हमारा जो समाज हैं वो बहुत आगे निकल चूका हैं. विदेशी इंडिया के कल्चर को अपना रहे क्यूंकि उनके कल्चर ने उन्हें बर्बाद कर दिया. और हम विदेशी कल्चर अपना रहे हैं क्यूंकि हम बर्बाद होना चाहते हैं. ये बड़ा ही कूल लगता हैं. वरना आप आज के ज़माने में अनपढ़ कहलाओगे.

दस बारह साल के बच्चे बड़े शान से कहते हैं मेरे इंस्टाग्राम पर इतने फॉलोवर्स हैं. मै इन्फ्लुएंसर हूँ. और क्या इन्फ्लुएंस कर रहे हैं. सामाजिक गंदगी. कुछ दिन बाद शादी वादी वाला कांसेप्ट इंडिया से खत्म हो जायेगा. लिव इन वाला रिलेशन आ जायेगा. पहले इस्तेमाल करो फिर विश्वास करो लेकिन बाद में कचरे के डिब्बे में फेंक दो. फिर दूसरे की तलाश करो.

देखो मै कोई ज्ञानी नहीं हूँ भाई. लेकिन अभी आपने अपनों बच्चो को नहीं संभाला तो आनेवाला टाइम बहुत ही ख़राब टाइम दिखायेगा आपको. आप बेशक अपने बच्चो को सोशल मीडिया पर लेकर आओ. उन्हें इन्फ्लुएंसर बनाओ लेकिन अच्छी चीज़ो के लिए. गलत सिखानेवाले माता पिता गलत ही रिजल्ट पाएंगे.

एक बार आपकी मौत हो गयी तो आपको कोई याद नहीं रखनेवाला. की आपने क्या किया और क्या नहीं किया. दुनिया में बड़े बड़े लोग बड़ा वाला कांड करके चले गए कोई याद नहीं रखता. इसलिए जब तक जीओ अच्छे काम के लिए वायरल हो जाओ. ना तुम्हारे पैसे साथ जायेंगे और ना फॉलोवर्स और सब्सक्राइबर्स.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Read

DON'T MISS