सिद्धार्थ को लेकर हर कोई अलग कहानी क्यों बता रहा शहनाज़ शूटिंग पर थीं फिर घर पर भी थीं


किसी भी सेलिब्रिटी की मौत पर अगर मीडिया अलग अलग न्यूज़ दे तो आप किस पर भरोसा करेंगे और किस पर नहीं. हर कोई अपने हिसाब से अलग अलग न्यूज़ दे रहा हैं. पहले खबर ये आयी की सिद्धार्थ ने रात तीन बजे पानी माँगा तो उनकी माँ ने उन्हें पानी दिया फिर छह बजे सुबह उठाने गयी तो सिद्धार्थ ने दरवाजा नहीं खोला तो नौ बजे अपनी बेटी और दामाद को बुलाया. इसके बाद घर पर किसी डॉक्टर को बुलाया फिर कूपर हॉस्पिटल गए.

इसके बाद कुछ मीडिया ये बता रही हैं की रात डेढ़ बजे सिद्धार्थ ने पानी माँगा तो शहनाज़ और उनकी माँ ने नींबू पानी दिया.और सिद्धार्थ शहनाज़ की गॉड में सर रख कर सोये थे. फिर कुछ मीडिया वाले बताये की जब सिद्धार्थ की मौत की खबर शहनाज़ ने सुनी तो शूटिंग छोड़कर वो कूपर हॉस्पिटल पहुंची.

फिर कुछ मीडिया वाले कहते हैं सिद्धार्थ अकेले घर में रह रहे थे. उनकी माँ दूसरी जगह रहती थीं. फिर कोई कहता हैं की शहनाज़ सिद्धार्थ लिव इन में रहते थे. फिर कोई कहता हैं की सिद्धार्थ जब आँखे नहीं खोल रहे थे तब शहनाज़ रोते और दौड़ते हुए बिल्डिंग की गेट पर भागी. कोई कहता हैं अपनी माँ के घर गयी जो उसी बिल्डिंग में रहती हैं.

बाद में पता चलता हैं की शहनाज़ के पिता पंजाब से अपनी बेटी को मिलने आ रहे क्यूंकि उसकी हालत ख़राब हैं. मतलन शहनाज़ के माता पिता क्या अलग अलग रहते हैं और अगर शहनाज़ की माँ उसी बिल्डिंग में रहती हैं तो शहनाज़ सिद्धार्थ के घर पर लिव इन में क्यों रहती.

सिद्धार्थ का जिम ट्रेनर कहता हैं वो सीधे सोते हुए मिले जबकि वो सीधे सोते नहीं. घरवाले कह रहे करवट बदल कर सोये थे. पहले हार्ट अटैक की बात सामने आयी. फिर कार्डिएक अरेस्ट की बात सामने आयी. और अब कूपर हॉस्पिटल के वो डॉक्टर्स जो पोस्टमार्टम कर चुके हैं वो भी तीन बार जांच पड़ताल की लेकिन उन्हें ये पता नहीं चल सका की सिद्धार्थ की मौत हुई कैसे हैं.

जब घर के बगल में अंबानी हॉस्पिटल है तो फिर कूपर हॉस्पिटल ले जाने की क्या ज़रूरत आ गयी. एक तरफ मीडिया कहती हैं की कूपर हॉस्पिटल ले जाने के टाइम रास्ते में ही सिद्धार्थ ने शहनाज़ की गोद में दम तोड़ दिया जबकि वही मीडिया कहती हैं की वो शूटिंग कर रही थीं. घरवाले कहते हैं सिद्धार्थ की मौत घर पर हो गयी थीं.

अब बताओ एक इंसान सही न्यूज़ नहीं दे रहा तो बाहर तो सिर्फ गलत न्यूज़ ही आएगी. फिर जनता तो शक करेगी ही की कुछ गड़बड़ हैं. या तो मीडिया जल्दबाजी में न्यूज़ बना देती हैं की कौन देखने आ रहा या फिर वाकई कुछ गड़बड़ हैं. ऊपर सिद्धार्थ की गाड़ी का शीशा टूटना ये अलग स्टोरी हैं.Security guard बोल रहा की मुझको मीडिया से बोलने को मना करा गया. इतनी स्टोरी तभी होती हैं जब मामला गड़बड़ वाला होता हैं.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS