सलमान शाहरुख़ और आमिर डरपोक हैं नसीरुद्दीन शाह ने ऐसा क्यों कहा


आजकल नसीरुद्दीन शाह को बड़बड़ाने की आदत हो गयी हैं. कभी उन्हें इंडिया में डर लगता हैं. कभी उन्हें ये डर लगता हैं की सरकार जो हैं वो खुद की बढ़ाई करने के लिए बॉलीवुड वालो से अच्छी फिल्मे बनवाती हैं. कभी तालिबान पर बात करते हैं तो कभी कुछ और. यानि मिला जुलाकर बुढ़ापे में बूढ़ी सठियाने के पूरे लक्षण दिखाई पद रहे हैं ठीक आइए है जैसे मुन्नवर राणा.

नसीरुद्दीन शाह ने बॉलीवुड में काम करनेवाले कलाकारों को एकजुट रहने को कहा हैं. ये भी कहा की बॉलीवुड के तीनों खान यह लोग खुद को इतने बड़े कलाकार समझते हैं लेकिन किसी भी मुद्दों पर कुछ भी नहीं बोलते हैं।

फिर ये कहते है की उसकी वजह ये है की भारत में कई मुद्दों पर बोलने के चलते इन्हे सताया गया हैं परेशान किया गया हैं. इसलिए ये डरते हैं. ये इसलिए चुप रहते हैं क्यूंकि इन्हे बहुत कुछ खोने का डर रहता हैं.

अगर ये किसी मुद्दे पर बोलेंगे तो इन्हे सिर्फ आर्थिक तौर पर परेशान नहीं किया जाएगा बल्कि इनके हाथ से विज्ञापन जाएगा. इन्हे हर तरफ से परेशान किया जायेगा. इनका मानसिक उत्पीड़न होगा. इनका जीना मुश्किल कर दिया जाएगा.

नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि जो भी बोलने की हिम्मत करता है उसी का उत्पीड़न किया जाता है। ये भी कहा की सिर्फ जावेद अख्तर को ही परेशान नहीं किया जाता बल्कि मुझे भी किया गया हैं. मुस्लिम होने के नाते मुझे बॉलीवुड में कभी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा लेकिन जब भी हम अपने मन की बात करते हैं तो हमें धमकिया दी जाती हैं.

यानी आप सीधे तौर पर देख सकते हैं की नसीरुद्दीन शाह यहाँ पर विक्टिम कार्ड खेलने की कोशिश कर रहे हैं वो भी मुस्लिम धर्म के नाम पर. ऊपर से ये कहते हैं की हम गलत बात नहीं करते. नफरत नहीं फैलाते. अपनी फिल्मो में बॉलीवुड जब हिन्दू धर्म पर गलत चीज़े दिखाता और बोलता हैं तब ये चीज़ नसीरुद्दीन शाह को दिखाई क्यों नहीं पड़ती.

जब तक सरकार किसी और की थीं तब तक बॉलीवुड में हर साल किसी ना किसी को पदमश्री मिल जाता था सिर्फ चापलूसी के चलते. अब वही पुरस्कार आम जनता को मिलने लगा तो तकलीफ है. बहुत से ऐसे निरंता थे जिन्हे सरकार फिल्म बनाने के लिए पैसे देती हैं थीं वो अब बंद होगा इसलिए तकलीफ हैं.

तो अपनी तकलीफ को मुस्लिम धर्म का चोंगा पहनाकर विक्टिम कार्ड खेला जा रहा हैं. अगर इतना ही डर होता तो शाहरुख़ खान और सलमान खान अपने घर में गणपति नहीं रखते जो की कांग्रेस की सरकार के समय से रखते चले आ रहे हैं. बल्कि उनके खुद के फैंस धमकिया देते हैं. काफिर कहते हैं.

बॉलीवुड में बहुत से लोगो पर गलत बात के लिए उन्हें ट्रोल किया जाता ना की सही बात के लिए. बहुत से फायदे मिलने बंद हो गए तकलीफ इस बात की हैं. बॉलीवुड के लिए पैसे ही उनका धर्म हैं बाकी चीज़े बाद में आती हैं.


Like it? Share with your friends!

165

You may also like

More From: News

DON'T MISS