वाह रे देश की अदालत. सुशांत के पिता से कहा अपनी प्रॉब्लम खुद से लड़ो | भरोसा ही ख़त्म हो गया


हमारे देश में अदालत क्यों होती हैं ताकि इन्साफ मिल सकें. लेकिन इन्साफ मिलता किसे हैं पैसे वालो को. जो ताकत रखते हैं. जिनकी पकड़ राजनीति में बहुत अंदर तक होती हैं. एक आम इंसान इन्साफ की उम्मीद करता हैं तो उसकी पूरी ज़िंदगी बर्बाद हो जाती हैं. ज़िंदगी खत्म हो जाती हैं लेकिन इन्साफ मिलता ही नहीं.

एक तो हमारे देश में अदालतें कम हैं. फैसला करनेवाले जज कम हैं. जो हैं वो कुछ ही घंटे काम करते हैं. शनिवार. रविवार अदालत खुलती नहीं वो अलग बात हैं की किसी आतंकी की जान बचानी हो तो अदालत रात दो बजे भी खुल सकती हैं. इस तरह का ढीला रवैया रहेगा तो इंसाफ कहा मिलेगा.

लोगो को दो वक्त की रोटी मिल जाये वही बड़ी बात हैं इंसाफ तो हमारे देश में ऐसी चिड़िया का नाम हो गया हैं जो राजनीती के ज़हरीले रेडिएशन के संपर्क में आने की वजह से गायब ही हो गया हैं.

एक बहुत ही बकवास सी फिल्म हैं जो सुशांत को बदनाम करने और सुशांत के नाम पर पैसे कमाने के लिहाज से बनाई गयी हैं. सुशांत के पिता जब इस फिल्म को रुकवाने के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हैं तब कोर्ट कहती हैं मेकर्स इस फिल्म को रिलीज़ कर सकते हैं इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं हैं.

सुशांत के पिता फिर से कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हैं. अदालत तारीख पर तारीख देती हैं और जब तारीख आती हैं तब अदालत ये कहती हैं की ये कोर्ट का मामला नहीं है आप फिल्म मेकर्स से बात करो और अपना केस वही सुलझाओ.

जब इंसान अपना केस बाहर ही सुलझा लेगा तो अदालत किस काम की हैं और जज का क्या काम हैं. कल को सीबीआई भी सुशांत के पिता को बोल देगी की ये तुम्हारा अपना मामला हैं तुम खुद ही पता लगवा लो की सुशांत ने आत्महत्या की थीं या उनका मर्डर हुआ था.

न्यायपालिका से इस तरह की उम्मीद नहीं थीं. जो एक छोटा सा फैसला नहीं ले सकती की जिस केस की अभी जांच चल रही हैं उस पर कोई फिल्म नहीं बना सकते. बल्कि ऐसा करोगे तो जेल की सजा होगी. फिल्ममेकर्स का पैसा डूबता हैं डूबे उसे किसने कहा था की वो फिल्म बनाये. यहाँ पैसा ज़रूरी हैं या सुशांत को इंसाफ.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS