ये एनसीबी ऑफिस हैं आपका प्रोडक्शन हाउस नहीं | अनन्या पांडे को समीर वानखेड़े ने जमकर सुनाया तो रोने लगी


मुझे नहीं लगता की बॉलीवुड वालो की कुछ खास इज्जत बची हैं अब. जिस दिन अनन्या पांडे का नाम आता हैं उसे एनसीबी ऑफिस पहुंचना था दो बजे लेकिन मेडम ने सोचा चलो थोड़ा मेकअप वगैरह कर लूँ. तोफा गरीब और ईमानदारी दिखे. इसलिए अचानक से आँखों पर नंबर वाला चश्मा और नौकरानी से मांगकर पहना हुआ सफ़ेद कपड़ा जुगाड़ कर लिया.

दो बजे आना था लेकिन इन सब जुगाड़ के चक्कर में बज गए पांच. एनसीबी टीम ने कहा कल सुबह 11. बजे आना. अनन्या को लगा चलो आज भी लेट चलती हूँ. मेडम का इंतेज़गर करते करते बज गए पूरे 2. हिलते डुलते. चक्कर लगाते मेडम पहुंची एनसीबी ऑफिस पूरे तीन घंटे लेट.

बस फिर क्या था समीर वानखेड़े ने कहा. ‘आपको 11 बजे बुलाया गया था और आप अब आ रही हैं. अधिकारी आप के इंतजार में नहीं बैठे हैं. ये कोई तुम्हारा प्रोडक्शन हाउस नहीं है, ये सेंट्रल एजेंसी का ऑफ‍िस है, जितने बजे बुलाया जाए उस समय पर पहुंच जाया करो.’

अब अनन्या को लगा यार मै तो सेलिब्रिटी हूँ इतना स्ट्रगल करके इतनी बड़ी हेरोइन बनी हूँ. ये तो गज़ब बेइज्जती हो गयी मेरी.टाइम पर आना पड़ेगा वरना वानखेड़े आर्यन के माफिक अपने को भी जेल में डाल देगा.


Like it? Share with your friends!

264

You may also like

More From: News

DON'T MISS