मेरी जीने की इच्छा खत्म हो गई थी दीपिका पादुकोण इतना ड्रामा कैसे कर लेती हैं


बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ खबरों में बने रहने के लिए कितना ड्रामा करते हैं ये बात आप इस वीडियो में समझ सकते हैं. दुनिया खत्म हो जाएगी लेकिन इनका ड्रामा कभी खत्म नहीं होगा. बात ये हैं की दीपिका पादुकोण

‘मुझे 2014 में डिप्रेशन हुआ था, जिसके बाद मैने एक मेंटल हेल्थ फाउंडेशन की शुरुआत की थी जहां हम इस बीमारी से जुड़े लोगों की मदद करते हैं’. एक्ट्रेस ने शो के दौरान डिप्रेशन को लेकर अपने अनुभव भी बिग बी के साथ साझा करते हुए कहा कि, ‘मुझे ऐसा लगता था कि मुझे काम पर नहीं जाना है, मैं किसी को मिलना नहीं चाहती थी, मैं बाहर नहीं जाना चाहती थी मैं कुछ नहीं करना चाहती थी’.

फिर कहा की मन करता था अपनी ज़िंदगी समाप्त कर दूँ जिसे सुनकर अमिताभ और फराह शॉकिंग रिएक्शन देते हैं. एक्टर है तो देने में कोई तकलीफ भी नहीं हैं. और बैकग्राउंड म्यूजिक उस सीन को और ड्रामे से भर देता हैं.

इसके बाद फराह खान कहती हैं , ‘सर जब ये 2014 में मेरी फिल्म हैप्पी न्यू ईयर की शूटिंग कर रही थी तब मुझे एक परसेंट भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि यह किस परेशानी से गुजर रही है, मैं तो बहुत सालों तक यही सोच रही थी कि इसे ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है’. फराह की यह बात सुनकर अमिताभ बच्चन भी दीपिका पादुकोण से कहते हैं, ‘हम सब प्रार्थना करते हैं कि आप स्वस्थ रहें और कभी भी ऐसी स्थिति में ना जाएं’.

अब आप दीपिका का ड्रामा देख लो. जो इंसान डिप्रेशन में होता हैं उसकी क्या हालत होती हैं वो खुद दीपिका को नहीं पता लेकिन ड्रामा करना. इनके हिसाब से इन्हे और बाकी ऐसे कई लोग हैं बॉलीवुड में जिन्हे डिप्रेशन था लेकिन वो बच गए और काम भी कर रहे थे. लेकिन सुशांत को डिप्रेशन था तो उसने आत्महत्या कर ली जबकि सुशांत की किसी पोस्ट से ऐसा नहीं लगता था की कोई प्रॉब्लम हैं.

सुशांत की मौत के ठीक बाद ये मैडम डिप्रेशन पर ज्ञान देने के लिए वीडियो भी बना चुकी हैं. ताकि सुशांत ने आत्महत्या की उनके नाम पर अपनी डिप्रेशन वाली NGO. की रोटीया सेंक लू. असली डिप्रेशन में तो तुम्हारा पति लगता है पहले उसका इलाज करो. जो औरतो के कपडे पहनकर घूमता हैं.

वो औरतो के कपडे पहने तो सुपरस्टार कोई और पहने तो टिक टोक का नचनीया. डिप्रेशन की बात बोलकर ये खुद की गांजा फूँकवाली बात को कवर कर रही हैं. अगर ये डिप्रेशन में थी तो साल 2015. में तीन फिल्मे आती हैं. तमाशा, बाजीराव मस्तानी और पीकू, साल 2014. में भी तीन फिल्म आती हैं फाइंडिंग फेनी, कोचादियान, और हैप्पी नई ईयर. साल 2013 में चार फिल्मे आयी थीं. चेन्नई एक्सप्रेस, बॉम्बे टाकीज़,रामलीला, ये जवानी है दीवानी, रेस 2.

अब बताओ जिस इंसान के पास इतनी फिल्मे हो, पैसे हो, नाम हो तो किस बात का डिप्रेशन. परिवार में भी ऐसी कोई घटना नहीं जिसके चलते डिप्रेशन में गयी हो. चलो कुछ लोग कहेंगे रणबीर कपूर के साथ रिश्ता टूटा तो डिप्रेशन में चली गयी.

ऐसा हो ही नहीं सकता. बॉलीवुड में ये बड़ा कॉमन हैं. रणबीर कपूर से पहले इनका रिश्ता निहार पांडया,उपेन पटेल, मुजामिल इब्राहिम, युवराज सिंह, सिद्धार्थ माल्या ये लोगो के साथ इनका अफेयर था. बाकी कितने के साथ हिडन अफेयर होगा ये कोई नहीं जानता.

तुमने बड़ी शान से ये बता दिया की तुम साल 2014. में डिप्रेशन में थीं लेकिन डिप्रेशन किस बात का था ये कौन बताएगा. बात कुछ नहीं मैडम को बस अपना एजेंडा चलना हैं.हैरानी की बात ये हैं की 2014. में डिप्रेशन था और साल 2015. में मेन्टल हेल्थ को लेकर अपना फाउंडेशन भी खोल देती हैं.

मुझे ऐसी एक वजह नज़र नहीं आती जिसके चलते दीपिका डिप्रेशन में चली जाएं. डिप्रेशन की अवस्था में व्यक्ति स्वयं को लाचार और निराश महसूस करता है। उस व्यक्ति-विशेष के लिए सुख, शांति, सफलता, खुशी यहाँ तक कि संबंध तक बेमानी हो जाते हैं।

लेकिन यहाँ तो ये पूरी दुनिया घूम रही थी. आईपीएल 2014 में शाहरुख़ खान की टीम को सपोर्ट करते नज़र आयी थीं. आईपीएल की पार्टी में डांस कर रही थीं. फिल्मे कर रही थीं एक के बाद एक. तो कोई बताएगा की ये कौन सा डिप्रेशन था. तो ये ड्रामा बंद करो दीदी. डिप्रेशन किस वजह से था अपनी बात को प्रूफ के साथ बोलो तब यकीन होगा.


Like it? Share with your friends!

199

You may also like

More From: News

DON'T MISS