बॉलीवुड की सारी फिल्म आप सिनेमाघर में देखो बॉलीवुड को ज़िंदा कर दो


अक्षय की इस बात को सुन कर इतना हंसना आ रहा हैं की क्या बोले. इनकी सोच को देख लो. अक्षय का कहना हैं की इस साल मेरी पांच फिल्मे आ रही हैं. सब कुछ अच्छा चल रहा हैं. दो साल एंटरटेनमेंट इंडसट्री के लिए बहुत बुरा समय रहा हैं. अब हमें आपकी ज़रूरत है की आप सभी हमारा साथ दें.

आप सभी लोग सिनेमाघर में भरी तादाद में जाए और हमारी हर फिल्म को देखें. ताकि हमारी इंडसट्री फिर से जीवित हो सकें. अक्षय कुमार की बेल बॉटम और लक्ष्मी बुरी तरह से फ्लॉप रही हैं.

अक्षय कुमार की आने वाली फिल्मे ‘सूर्यवंशी’, ‘पृथ्वीराज’, ‘बच्चन पांडे’, ‘रक्षाबंधन’ और ‘राम सेतु’ शामिल हैं। वहीं अक्षय की ‘ओह माई गॉड’ और ‘अतरंगी रे’ दोनों के अगले साल रिलीज होने की संभावना है।

अब सवाल ये हैं की लोग बॉलीवुड को क्यों सपोर्ट करे. लोगो की ऐसी क्या मज़बूरी है जो बॉलीवुड को ज़िंदा रखने के लिए अपनी जान पर खेलकर सिनेमाघर जाये. अपने पैसे खर्च करें. वो पैसे जिसमे वो घर का राशन, दवाई, पढ़ाई, बिजली बिल सब कुछ भर सकते हैं. क्या बॉलीवुड की फिल्मे देखने से लोगो का घर चलेगा ? नहीं लोगो का नहीं बल्कि बॉलीवुड वालो का चलेगा.

जब लोग देखेंगे तब इनकी फिल्मे हिट होंगी और ब्रांड वैल्यू फिर से बढ़ेगी. और स्टारडम के नाम पर फिर वही घमंड देखने को मिलेगा. सबसे बड़ी बात क्या अक्षय कुमार या बाकी किसी बॉलीवुड स्टार्स ने सुशांत के लिए आवाज़ उठाई की सुशांत को इन्सांफ मिल सकें. इस केस की सही जांच हो.

जिस अकेली एक्ट्रेस ने बॉलीवुड माफिया से लेकर महाराष्ट्र सरकार से युद्ध किया सबसे ज़्यादा नुक्सान उसी का हुआ. कंगना रनौत जब थालायवी आती हैं तब किसी भी बॉलीवुड एक्टर्स, निर्माता और निर्देशक ने कंगना की तारीफ नहीं की. खुद अक्षय कुमार ने नहीं की. तो किस मुँह से अक्षय बोल रहे की बॉलीवुड को ज़िंदा करने में हमारी मदद करो.

जब तुम अपने इंडसट्री की एक्ट्रेस को सपोर्ट नहीं कर सकते तो लोग तुम्हे क्यों सपोर्ट करें. सपोर्ट क्यों करे. इस इंडसट्री को सपोर्ट करने का क्या मतलब है जब यहाँ पर ड्रग्स, नेपोटिस्म, माफिया इन सभी का बोलबाला हैं. तो अक्षय कुमार को इस तरह की बात बोलने से पहले खुद का आंकलन कर लेना चाहिए की वो कितने सही और कितने गलत हैं.


Like it? Share with your friends!

172

You may also like

More From: News

DON'T MISS