बरबाद बॉलीवुड की रियलिटी जानकार भी कुछ लोग अनजान क्यों बनते हैं


ये वीडियो खासकर उन लोगो के लिए हैं जो बॉलीवुड स्टार्स के अंधभक्त हैं. जिन्हे पता तो कुछ नहीं हैं लेकिन ज्ञान पूरे ब्रह्मांड के देते हैं. इस चैनल पर मैंने कई वीडियोस बनाई हैं जिसमे मैंने हर मुद्दे पर बात रखी हैं. खासकर बॉलीवुड का हिन्दू विरोधी चेहरा.

जैसे आमिर खान की पिके, सैफ अली खान की तांडव वेब सीरीज, पाताललोक में मंदिर में एक किरदार का शराब और मांस खाना, अक्षय कुमार की फिल्म ओह माय गॉड में भी देवी देवताओं का मज़ाक उड़ाना. बॉलीवुड की ज़्यादातर फिल्मो में विलेन के हाथों में कलावा और माथे पर टिका लगाकर दिखाना.

ऐसी छोटी छोटी बहुत सी बातें हैं जिसे हम देखते हैं और भूल जाते हैं. क्यूंकि बहुत से लोगो को ये समझ में नहीं आता और बहुत से लोगो को इससे फर्क नहीं पड़ता. उनके हिसाब से ये सिर्फ एक फिल्म का हिस्सा हैं. लेकिन यही छोटा सा काम या फिल्म का एक हिस्सा किसी और धर्म के नाम पर बॉलीवुड क्यों नहीं करता.

क्यूंकि इसकी दो वजह हैं. एक तो बॉलीवुड की ज़्यादातर फिल्मों में पैसा अंडरवर्ल्ड का लगा होता हैं. जिनका मकसद ही हैं हिन्दू धर्म पर चोंट करना. दूसरा बॉलीवुड हिन्दू विरोधी हैं इसमें कोई दो राय नहीं हैं. जो लोग कहते है की ये तो सिर्फ फिल्म का एक हिस्सा हैं इससे क्या फर्क पड़ जाएगा.

फर्क एक दिन में नहीं पड़ता. और जब पड़ता तब वो बर्बाद कर देता हैं. अंग्रेज हमारे देश में सिर्फ मसाले बेचने की परमिसन लेकर आये थे लेकिन धीरे धीरे उन्होंने पूरे भारत को गुलाम बना लिया. मुग़ल भी यहाँ एक एक करके आये थे बाद में पूरा भारत बर्बाद कर दिया.

इन सभी ने भारत की सभ्यता, संस्कृति और धन दौलत को जमकर लूटा. वरना पूरी दुनिया में भारत सबसे अमीर देश था. इसे सोने की चिड़िया ऐसे ही नहीं कहा जाता था. भारत में करंसी का इतिहास 2500 साल पुराना हैं. अंग्रज जब भारत से गए तब 1947 में एक रुपया एक डॉलर के बराबर था. वही साल 1920 में एक रूपये की कीमत १३ डॉलर के बराबर थीं.

सिगरेट पीनेवाले का फेफड़ा एक दिन में ख़राब नहीं होता कई साल लगते हैं. जब तक आप ऊपरी सतह देखोगे तब तक वही दिखेगा जो आपकी नज़रें देखती हैं. दूध के ऊपर की मलाई आपको दिखती हैं लेकिन उस दूध के भीतर कोई ज़हरीला कीड़ा गिरा है ये बात नहीं दिखती. फिर दूध पीते ही आप फ़ूड पोइज़निंग का शिकार हो जाते हो.

कोरोना के समय जब आंकड़े बढ़ रहे थे तब हर कोई सरकार को दोष दे रहा था की सरकार कोई इंतेज़ाम नहीं कर रही हैं. दवा नहीं हैं. रेम डेसिवीर नहीं हैं. हॉस्पिटल में बेड्स नहीं हैं. और अब देखो थोड़ा सा लॉक डाउन क्या खुलता हैं लोग पूरी फॅमिली के साथ शिमला और मनाली निकल जाते हैं. किसी को हनीमून मनाना हैं किसी को खुली हवा में सांस लेनी हैं. किसी ने बहुत दिन से कोई नयी तस्वीर इंस्टाग्राम पर नहीं डाली.

जब यही लापरवाही तीसरी लहार लेकर आएगी तो यही लोग कमर कसकर सरकार को कोसने में कोई कसर नहीं छोड़ेगे. तुम्हारी अपनी जिम्मेदारी नहीं हैं क्या ? की तुम पर्सनल लेवल पर जाकर अपने फॅमिली की हिफाज़त करो. घूमने के लिए पूरी ज़िंदगी पडी हैं.

इतनी डिटेल में समझने के बाद भी लोगो को नहीं समझेगा की बॉलीवुड इस देश के लिए क्या कर रहा हैं. एक दो किरदार कमेंट में आकर ये बोलते हैं की आमिर खान और सैफ अली खान तो बड़े एक्टर हैं इसलिए तुम उसे निशाना बनाकर व्यूज के लिए टारगेट करते हो.

तांडव के जिस सीन में विवाद हुआ उसमे तो सैफ अली खान नहीं था. पिके फिल्म में आमिर खान एक्टर हैं. फिल्म तो एक हिंदू ने बनाई थीं. तुम उस एक्टर को बोलो जो उस सीन में था.

बात यहाँ पर हिंदू मुस्लिम की है ही नहीं. की फिल्म हिंदू ने बनाई या मुस्लिम ने. फिल्म बनाई हैं बॉलीवुड ने जिसका काम है हिंदू विरोध को बेहद क्रिएटिव तरीके से दिखाना जिसे लोग सच मान बैठे. हमारे देश में ट्रेन एक्सीडेंट होता हैं तब आप किसे दोष देते हो उसे ना जो सरकार में बैठा हैं. जो प्रधानमंत्री हैं.

मुंबई की सड़को पर पानी भरता हैं तब आप बीएमसी को दोष देते हो ना उस वक्त को आमिर खान, सलमान खान या अमिताभ बच्चन को दोष नहीं देते क्यूंकि उनका और सड़क पर पानी भरने का कोई नाता नहीं हैं.

आमिर खान, सलमान खान, अक्षय कुमार, शाहरुख़ खान ऐसे कई नामी एक्टर्स हैं जो एक फिल्म करने एक करोड़ो रूपये लेते हैं. साथ ही उसके स्क्रिप्ट पर भी काम करते हैं. उसमे बदलाव करते हैं. और फिल्म के प्रॉफिट में हिस्सा भी लेते हैं. अगर फिल्म को घाटा होता हैं तो उसे भी पूरा करते हैं. जैसे सलमान खान की टूब लाइट फ्लॉप हुयी तो सलमान को हर्ज़ाना चुकाना पड़ा था.

तो ये बात मत बोलो की फिल्म की स्टोरी किसी और ने लिखे हैं, डिरेक्टर कोई और हैं , निर्माता कोई और हैं. इसमें सलमान खान आमिर खान या सैफ अली खान का कोई रोल नहीं उनकी गलती नहीं. फिल्म की स्टोरी, स्क्रिप्ट, उसके प्रमोशन, उसके पोस्टर डिज़ाइन तक की जिम्मेदारी फिल्म के बड़े बड़े स्टार्स लेते हैं.

इसलिए फिल्म को लेकर पूरी जानकारी नहीं तो फालतू के कमेंट मत करो. कुछ लोग को मैं रिप्लाई करता था मुझे लगा थोड़े समझदार हैं लेकिन रियलिटी में बेवक़ूफ़ हैं. ऐसे कमेंट करके बस फुटेज लेते हैं.

रही बात मेरे पॉपुलर होने की तो उसकी ज़रूरत नहीं मुझे. इस चैनल को बनाने से पहले ही बॉलीवुड इंडस्ट्री, एनीमेशन इंडस्ट्री, पॉलिटिक्स इन सभी फील्ड में बहुत काम कर चूका हैं. अंदर तक का ज्ञान हैं इसलिए बोलता हूँ. बहुत से बातें इसलिए नहीं बोल सकता क्यूंकि फॅमिली ऑडियंस हैं. मुझे पॉपुलैरिटी की ज़रूरत नहीं. फेसबुक इंस्टाग्राम के आधे से ज़्यादा मीम्स पेजेज मैनेज करते हैं.

लॉक डाउन हैं इसलिए वीडियोस बना रहा हूँ. सुशांत के साथ गलत हुआ इसलिए वीडियो बना रहा हूँ. वरना बहुत कम टाइम मिलता हैं. एक बार कोरोना का खतरा निकल जाने दो बॉलीवुड की सच्चाई पर ऐसी ऐसी वीडियो आएगी की आपका सर चकरा जायेगा.

बॉलीवुड के बड़े बड़े निर्माता जो वव्यहार स्पॉट बॉय, कारपेंटर्स, एलेक्ट्रिशन्स, सेट मेकर्स यानी जो मजदूर वर्ग कमरे के पीछे रहकर काम करते हैं उनके साथ जो बर्ताव करते हैं उसे देखोगे तो रोना आ जाएगा. इंसान को इंसान नहीं समझा जाता हैं. बॉलीवुड की चमक धमक सभी को अच्छी लगती हैं इसके पीछे का काला सच बेहद डरावना हैं.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS