पति राज कौशल का अंतिम संस्कार करने पर ट्रोल हुईं मंदिरा बेदी


दुनिया में हर कोई संस्कारों का रोना रोता हैं. संस्कार होने चाहिए और उसका पालन भी करना चाहिए. लेकिन कुछ हालात ऐसे होते हैं जिसमे इंसान इन चीज़ो का पालन नहीं कर पाता. क्यूंकि वो उस हालत में नहीं होता. उसके ऊपर दुखों का पहाड़ होता हैं. कुछ दिन पहले मंदिर बेदी के पति की हार्ट अटैक से मौत हो गयी.

एक वीडियो हमने देखा जिसमे वो अपनी पति के शव को शमसान तक ले जा रही हैं. हाथों में आगवाली मटकी पकड़ी हैं. मंदिर ने जीन्स और टीशर्ट पहनी हैं. अब कुछ बेवकूफो को इसमें प्रॉब्लम हैं. की वो प्रॉपर कपडे पहनकर जा सकती थीं. जीन्स और टीशर्ट पहनकर नहीं जाना चाहिए. अपनी पति की लाश को नहीं उठाना चाहिए था. औरतों का शमसान में जाना मना हैं. तरह तरह की बातें लोग कर रहे थे जो उनके लिए घर बैठकर बोलना बेहद आसान हैं.

जो लोग मंदिर बेदी को ट्रोल कर रहे हैं उन्हें ये बात भी सोचनी चाहिए की जब कोरोना में किसी की मौत हो रही थीं तब उस वक्त किसी संस्कार का पालन नहीं किया जा रहा था. यहाँ तक की कितने तो ऐसे लोग थे जो अपनों को कंधा और संस्कार की क्रिया तक नहीं कर रहे थे. जो लोग ज्ञान दे रहे हैं की एक औरत हैं. ऐसा नहीं करना चाहिए. तो ऐसी ना जाने कितनी औरतें कोरोना में जब उनके पति की मौत हो गयी तो अकेले ये सारे काम किये हैं.

लोग उन तस्वीरों को भूल जाते हैं जब एक इंसान अपनी पत्नी के शरीर को दस किलोमीटर अंतिम संस्कार के लिए कंधे पर उठा कर ले जाता हैं. क्यों ? क्यूंकि उस गाँव के लोगो ने बोल दिया था गाँव में ये सब मत करना. तो भैया जिसके ऊपर दुःख आता हैं वही समझ सकता हैं की दुःख होता क्या हैं. फेसबुक इंस्टाग्राम पर बैठकर कमेंट करने से कुछ नहीं होता.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS