ट्रम्प चीचा के समर्थक बाहड़क गए और कैद कर लिया संसद


हमारे भारत देश में वोटिंग का फैसला एक दिन में हो जाता हैं और पता चल जाता हैं किसकी सरकार बनी. और कौन प्रधानमंत्री बना. लेकिन दुनिया को डेमोक्रेसी का पाठ पढ़ानेवाले अमेरिका में दो महीने बाद भी यही नहीं पता चल सका की सरकार किसकी हैं. कौन राष्ट्रपति बना.

मतलब हद्द है यार. दो महीने में तो हमारे लोकसभा, विधानसभा, नगरनिगम, पंचायत सब चुनाव होकर उसका रिजल्ट भी आ जाता हैं.और घोटाला तक हो जाता हैं. तो बात ऐसी हैं की ट्रम्प चीचा कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं हैं. सुबह नींद खुली तो देखा. ट्रम्प भाई के समर्थकों में संसद ही लूट लिया.

मतलब दंगा इतना भड़का की पूरा का पूरा संसद धुँआ धुआँ हो गया. बाद में स्पेशल फाॅर्स बुलाई गयी, फाॅर्स और ट्रम्प समर्थकों में लात घुसे चले. आंसू गैस के गोले दागे गए. चार लोग मारे गए. लेकिन इस दौरान भी जो कैमरामैन थे वो अलर्ट रहे और एक से बढ़कर एक तसवीरें निकलकर रख दी.

तो भैया हमारे देश में भी चुनाव के बाद कभी EVM का रोना तो कभी किसी और का रोना लगा होता हैं. फिर भी इतना नहीं होता जितना अमेरिका में हो गया. मोदी जी ने भी कहा की भैया ऐसा नहीं होना चाहिए.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: News

DON'T MISS