करीना खान की इस न्यूज़ को मिस किया तो पाप लगेगा | देश में इस वक्त सबसे बड़ा मुद्दा यही है


हमारे देश की मीडिया के लिए सबसे बड़ा मुद्दा क्या हैं ? कोरोना ? नहीं. पेट्रोल ? नहीं. महंगाई ? नहीं. मोदी जी और राहुल बाबा ? नहीं ?

हमारे देश की मीडिया के लिए सबसे बड़ा मुद्दा हैं …करीना कपूर खान और उनके दो चूज़े. करीना नाम की मुर्गी ने जब से तैमूर नाम का चूज़ा पैदा किया हैं. मीडिया एकदम पगला सी गयी हैं. ना कुछ दिखाई देता हैं और ना कुछ सुनाई देता हैं.

दिखाई देता हैं तो तैमूर ..सुनाई देता हैं तो तैमूर की पाद.

तैमूर, जहांगीर, बाबर और औरंगज़ेब पर बाद में आता हूँ पहले करीना खान की इस न्यूज़ को अगर आपने नहीं सुना तो आपका जीना बेकार हैं. समझ लेना इस दुनिया में आने का आपका जो मकसद है वो अधूरा रह गया हैं. एक तो समझ नहीं आता मेरे जैसे सीधे साधे इंसान को कैसे कैसे न्यूज़ देने पड़ते हैं. भगवान मेरे दो चार किलो पाप माफ़ करना.

तो खबर ये हैं की “प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स से दूर रहती थीं करीना” इस खबर को सुनने के बाद तो मेरी आँखों से आंसू ही निकल आये. इतनी बड़ी कुर्बानी. ये क़ुरबानी पहले दे देती तो इस तरह की न्यूज़ नहीं बनानी पड़ती. करीना का कहना हैं की सैफ ने बहुत साथ दिया. वो मेरी भावनाओ को समझते थे.

एक मिनट करीना दीदी … सैफ ने तुम्हारी भावनाओ को इतना समझ लिया हैं की अभी बाबर, औरंज़ेब, शाहजहां, हुमायूँ, अकबर इन सभी को पैदा करके ही दम लेगा . उसके बाद तुम कहोगी ..बस कर सैफू ..मै तो थक गयी.

सैफ भी कहेगा ..क्या बेबो हमने इतनी प्रॉपर्टी बनाई हैं. बच्चे दो ही अच्छे नहीं होते. दस बारह होंगे तो हम अपनी क्रिकेट टीम बना सकते हैं. कौन कहता हैं मुग़ल साम्राज्य का अंत हो गया. देखो वो सैफ अली खान और करीना कपूर खान के ज़रिये वापस आ रहा हैं.

वैसे ये मीडिया ने जो छापा हैं ये अगले UPSC एक्साम्स में पुछा जायेगा. हो सकता है TVF वाले Aspirant पार्ट २ इसी विषय को लेकर बना दें.

अभी कुछ दिन पहले करीना ने माता सीता के किरदार के लिए 12 करोड़ मांगे थे. लेकिन एक्टिंग तब करोगी ना जब बच्चा पैदा करने से फुरसत मिले. हो सकता हैं कल को ओलम्पिक में बच्चा पैदा करने की कोई प्रतियोगिता हो तो सारे मेडल्स करीना खान ही लेकर आये.

वैसे करीना के जो कर्म हैं उसे माता सीता का रोल तो छोड़ दो. अशोक वाटिका में सीता जी की सुरक्षा में जो राक्षशिणी कोयता लेकर खड़ी थीं वो भी करीना को दो चमाट मारकर बोले. अधर्मी, पापिनी तू मेरा रोल करने के लायक भी नहीं हैं. मेरा एक बॉय फ्रेंड तक नहीं और तू खटाखट खटाखट बच्चा पैदा किये जा रही हैं.

क्या हो गया है मीडिया को पैसे कमाने है तो इस तरह की न्यूज़ दिखाएंगे. इसलिए हमारे देश के अखबारों की कोई कीमत नहीं हैं. सुबह सुबह बस एक ही काम आती हैं. बच्चो के पॉटी करने के लिए. छोटे बच्चे जब पॉटी करते हैं अगर उनके नीचे अख़बार रख दिया जाए तो उनका कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ जाता हैं.

कोई भी अख़बार हो…हिंदी, इंग्लिश फरक नहीं पड़ता. टट्टी खबर टट्टी के काम ही आती हैं. ये है मीडिया का स्तर. अगर मीडिया को इस तरह की खबरे छापने में शर्म नहीं आती तो मुझे इस तरह की बाते कहने में भी शर्म नहीं आती हैं.

अभी एक तैमूर नाम के वायरस से पूरा देश पीड़ित ही था की जहांगीर नाम का डेल्टा वेरिएंट भी आ गया. अब गंदगी और मचेगी. जितनी तबाही कोरोना से नहीं हुयी उससे कहीं ज़्यादा तबाही मीडिया अब तैमूर और जहांगीर के नाम पर मचा देगी. ना कोई वैक्सीन काम करेगी ना कोई सेनेटाइजर. करीना और सैफ ने सोशल डिस्टन्सिंग ना राखी..मास्क नहीं लगाया तो अगले साल औरंगज़ेब का आना तय हैं.

तैमूर अगर पेशाब भी कर दें तो हमारी मीडिया बावली हो जाती हैं. गाना गाने लगती हैं. घनन घनन घिर आये बदरा रे. तैमूर को जुलाब हो जाये तो लिख देंगे.. लगी आज सावन की ऐसी झड़ी हैं.

जिन लोगो को मेरी बातें बकवास लग रही है ये वही लोग हैं जिनके लिए हमारी मीडिया तैमूर और करीना की बकवास खबरें छपती हैं. तैमूर नाम का ब्रांड बनाने के लिए अभी से करोडो रुपये फूंके जा रहे हैं.

क्या करीना अपने बच्चे का नाम मिसाइल मैन कलाम साहब के नाम पर नहीं रख सकती थीं ?
स्वतंत्रता सेनानी अशफ़ाक़ुल्लाह ख़ाँ के नाम पर नहीं रख सकती थीं. किसी मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी के नाम पर रख देती.

क्यों नहीं रखा ….पता हैं. क्यूंकि इन लोगो के कर्म अच्छे थे. ये लोग देश की लिए जीते थे और देश के लिए ही मर मिटे.

करीना और सैफ अली खान जैसे लोग बॉलीवुड में एक्टिंग कम और नफरत का काम ज़्यादा करते हैं. एक मासूम बची के रेप और मौत पर राजनीती करते हैं. हिन्दू देवी और मंदिर को बदनाम करते हैं. इसलिए अपने दोनों बच्चे का नाम भी अत्याचारी, दुराचारी, पापी और हत्यारें के नाम पर रखा.

ये कोई न्यूज़ हैं. करीना सैफ को कहती हैं इलू इलू….सैफ ने कहा जानू मेरी जान मै तुझपे कुर्बान. ऐसी क़ुरबानी सैफ ने अमृता सिंह और विदेशी गर्लफ्रेंड रोसा कास्टालनो को भी दी थीं. आगे किसी और को देगा इसकी कोई गारंटी नहीं हैं.

नहाते समय करीना गुलाबजल का इस्तेमाल करती हैं … वो गटर के पानी इस्तेमाल करें इससे हमें क्या ? काम की न्यूज़ किधर हैं बे?

प्रेगनेंसी के दौरान करीना को नहीं आती थीं नींद. मीडिया जगत में मचा कोहराम. हां दस बारह मीडिया वाले तो मर ही गए होंगे. करीना खान गयी होगी इनके तेरहवी पर पूरिया खाने.

देखो एक ज़माना था जब लोग मीडिया से डरते थे आज कोई मीडिया की धौंस दिखता हैं तो पहले लोग उसे दो कंटाप देते हैं. फिर कहते हैं छाप मेरे बारे वरना दो कंटाप और बजा देंगे.मीडिया इस देश का चैथा स्तंभ नहीं बल्कि बीका हुआ स्तंभ हैं. इसलिए वैसी ही इज्जत का हक़दार भी हैं.

बॉलीवुड के तलवे चाटना,देशविरोधी बाते लिखना और दिखाना. पैसे दो वरना तुम्हे बदनाम कर देंगे मीडिया में इस तरह की बात करना. ये है मीडिया का असली चेहरा. ये न्यूज़ वाले कम और लीगल तरीके से अंडरवर्ल्ड का बिजनेस चलाने वाले लोग हैं.

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

You may also like

More From: Bollywood Stories

DON'T MISS