इंडियन मीडिया का दोगला बर्ताव पैसे देख हिलाते है अपनी दूम


मीडिया ये शब्द सुनते हैं ऐसा लगता हैं एक नयी गाली, भ्रस्टाचार और एक लीगल आतंकवाद का जन्म हो गया हैं. जी हां ये देश का चौथा स्तंभ नहीं बल्कि देश का सबसे गिरा हुआ स्तम्भ हैं. ये है इंडियन मीडिया.

कानपूर में एक बन्दा क्रिकेट मैच के दौरान गुटखा खाता हुआ दिखाई पड़ गया तो मीम्स पेज ने मज़ाक के तौर पर लिया. लेकिन इंडियन मीडिया इसे इतनी गंभीरता से दिखा रही थीं की वो बढ़ना गुटखा नहीं खा रहा था मानो मुँह में बम लेकर बैठा था जिसके थूकने के बाद पूरे स्टेडियम में ब्लास्ट हो जायेगा.

उस बंदे का इंटरव्यू लिया जाने लगा की तुमने गुटखा क्यों खाया. ये गलत चीज़ हैं माफ़ी मांगो देश से. बगल में जो लड़की बैठी थीं जो उसकी बहन थीं उसे लोग गर्ल फ्रेंड बताकर गन्दी बातें लिखने लगे. मानो उसने कितना बड़ा अपराध कर दिया और मीडिया हमारी कितनी जागरूक हैं.

यही मीडिया उन बॉलीवुड वालो से सवाल नहीं करती जो गुटखा, ड्रग्स और पान मसाला को प्रमोट करते हैं. क्यों नहीं करते ? क्यूंकि उनसे पैसे मिलते हैं. विज्ञापन के भी और फिल्मो के प्रमोशन के भी. अब आप सोच लो इस मीडिया पर कितना यकीन किया जाये. जो सिर्फ पैसे के आगे ही अपनी दूम हिलाती हैं.

अगर उस लड़के की जगह कोई लड़की होती और गुटखा खा रही होती तो मीडिया वाले उसे बड़े प्यार से प्रमोट करते और अब तक उसके फॉलोवर्स की संख्या लाखो में होती दो चार ब्रांड्स के प्रमोशन भी मिल गए होते. तो सिर्फ मीडिया ही बेवकूफ नहीं हैं हमारे देश में हर किस्म के भाँती भाँती के बेवकूफ पाए जाते हैं.


Like it? Share with your friends!

152

You may also like

More From: News

DON'T MISS