अमिताभ के जीवन की सबसे बड़ी गलती जया से शादी नहीं. बल्कि ये हैं जिसके चलते बर्बाद हो गए


सोशल मीडिया पर अक्सर इस बात को लेकर चर्चा होते रहती हैं की अमिताभ बच्चन की ज़िंदगी की सबसे बड़ी गलती क्या हैं ? ज़्यादातर लोग कहते हैं जाया बच्चन से शादी ? अगर रेखा से की होती तो ज़िंदगी बेहतर होती. देखिये बेहतर तो जया से शादी करने के बाद भी थीं.

अमिताभ की सबसे बड़ी गलती थीं राजनीती में जाना. जिसके बाद इन्होने खुद को फ़िल्मी दुनिया से दूर कर लिया. अमिताभ के भीतर घमंड आ गया. भ्रस्टाचार का आरोप लगा.

अमिताभ बच्चन और कांग्रेस का रिश्ता बड़ा पुराना हैं. शायद डायनासोर के ज़माने इतना. तो राजीव गाँधी के कहने पर अमिताभ को फिल्म बॉम्बे तो गोवा में मौका मिला. फिर राजीव के कहने पर अमिताभ ने चुनाव लड़ा. और भारी मतों के साथ विजयी भी हुए.

राजनीती में आते ही फ़िल्मी दुनिया से दुरी बना ली. जो करीबी थे उनसे घमंड के साथ पेश आने लगे की अब वो कोई साधारण एक्टर नहीं बल्कि एक सांसद हैं. अपुन को चाहिए अब फुल इज्जत. इसी फूल इज्जत के चक्कर में कदर खान जैसे कलाकार से उनका रिश्ता टूट गया.

आगे चलकर सिर्फ तीन साल में राजनीती से मोहभंग हो गया. क्यूंकि इनके ऊपर बोफोर्स की दलाली का आरोप लगा. फिर 1984. में सिख हत्याकांड में सिखों ने भी आरोप लगाया की अमिताभ ने इंदिरा गाँधी की लाश के पास खड़े होकर नारा दिया था “खून का बदला खून से लेंगे.’ हालांकि अमिताभ इन बातो से इंकार करते हैं.

जब राजनीती में प्रचार कर रहे थे तब लोग चुनाव के दौरान नचनिया, भांड जैसे शब्दों का इस्तेमाल अमिताभ के लिए करते थे. उस दौर के लोग आज भी अमिताभ को कोसते है. अमिताभ बच्चन को भी चुनाव के दौरान झूठे वादे करने का अफसोस आज तक है. जब राजनीती छोड़कर फ़िल्मी दुनिया में आये तब ढंग से सेट नहीं हो पा रहे थे.

इनका घमंड इन्हे ले डूबा. क़र्ज़ में पड़ गए. बर्बाद हो गए. खून का क़तरा क़तरा क़र्ज़ में डूब गया था. वो तो भला हो अमर सिंह का जिन्होंने अमिताभ को इस मुसीबत से निकाला लेकिन अमिताभ और उनकी फॅमिली अमर सिंह के एहसान को भूल गयी.


Like it? Share with your friends!

221

You may also like

More From: Bollywood Stories

DON'T MISS