अहमदाबाद में रात ११ बजे इंसानियत शर्मसार हुई | Boomindya

अहमदाबाद में रात ११ बजे इंसानियत शर्मसार हुई

इंसान जितनी तर्रकी करता जा रहा है उसके अंदर से इंसानियत उतनी ही ख़तम होती जा रही हैं | अपनी सुख सुविधा के आगे वो किसी और की तकलीफ को समझना ही नहीं चाहता हैं | ज़िन्दगी की कीमत क्या होती हैं ये वही समझ सकता है जिसने किसी अपने को खोया हो या फिर वो ज़िन्दगी और मौत की बीच जूझ रहा हो | ऐसा ही कुछ नज़ारा रात ११.३० बजे अहमदाबाद के पालड़ी में दिखा |

दरअसल अहमदाबाद के रहनेवाले उदित राजपारा अपने दोस्तों को छोड़ने बस डेपो गए हुए थे जो पालड़ी में पड़ता हैं | पूरे रास्ते वो गुजरात में हुए बदलाव की बातें अपने दोस्तों को बता रहे थे | और ठीक ऐसा ही कुछ अहमदाबाद में देखने को भी मिला | सुनसान सड़कों पर बिना किसी दर के लोगो का आना जाना लगा है | रस्ते के दोनों तरफ जगमगाती सड़के , गुजरात की तर्रकी की तसवीरें बयां कर रही थीं |

लेकिन पालड़ी में पहुंचने के बाद जब लोग अपने स्वार्थ के चक्कर में अपनी मंज़िल तक पहुंचने में जितनी जल्दबाजी दिखा रहे थे , उतनी जल्दबाजी लोग एक मरीज़ को ले जा रहे एम्बुलेंस को दिखाने में नहीं लगे | रात ११.३० बजे एम्बुलेंस अपनी पूरी आवाज़ में सायरन बजाये जा रहीं थीं , लेकिन कोई भी उस एम्बुलेंस को रास्ता देने के मूड में नहीं लग रहा था | ना तो वहाँ कोई ट्रैफिक हवलदार नज़र आ रहा था और ना ही किसी ने अपनी ज़िम्मेदारी समझने की कोशिश समझी |

उम्मीद है की ये वीडियो देखकर लोग सीखे और एम्बुलेंस को रास्ता ना देने वाले लोगो पर कड़ी करवाई करें |

Do not forget to share and let us know your views please write in the comments section below.

Like Us On Facebook : BoomIndya  | Follow Boom Indya On Instagram

You may also like...