८ पत्रकार जिन्हे सच बोलने के लिए मौत की नींद सुला दिया गया !

पत्रकार ये शब्द जेहन में आते ही बहुत कुछ बातें और तसवीरें आपके समक्ष घूमने लगती हैं . पत्रकार समाज का आईना होता है वो अपनी जान को जोखिम में डालकर आपके लिए सच को बहार लाता हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी पत्रकार हैं जिन्होंने सिर्फ पैसे के लिए खुद को बेच दिया हैं , कभी नेताओ के लिए तो कभी किसी और के लिए. पत्रकारिता सोशल मीडिया के दौर में इतनी आसान नहीं रह गयी हैं .

Gauri Lankesh

आज हर दूसरा इंसान खुद को पत्रकार समझता हैं. क्यूंकि उसे ऐसा लगता हैं की सोशल मीडिया पर उसके चाहनेवाले बहुत हैं और उसे ही साड़ी चीज़ों की समझ हैं .चलिए अब बात करते है असल मुद्दे की आखिर क्यों इन सब बातों की ज़रूरत पड़ गयी . कल बेंगलुरु में पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या कर दी गयी . जिस के ऊपर राजनीती गरमा गयी हैं, हत्या किसने की ये बात जब तक पुलिस पता करें उसके पहले ही राजनीतिक पार्टियों में ये घोषित कर दिया की हत्या बी जी पी ने करवाई हैं . जिस समाचार की हैडलाइन ये होनी चाहिए थी की बेंगलुरु में पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या कर दी गयी” वह मीडिया ने ये हैडलाइन बना दी की बी जी पी विरोधी पत्रकार की हत्या कर दी गयी.

Govind Pansare

हत्या किसी को भी हो वो एक जघन्य अपराध हैं लेकिन हत्या के कुछ ही पलों में ये साबित कर देना की हत्या किसने की है ये गलत बात हैं, किसी भी राजनीतिक पार्टी को गौरी लंकेश या उनके जैसे किसी भी पत्रकार के साथ कोई लेने देने जैसा नहीं हैं, लेकिन इस बात को अपने राजनीतीक स्टार पर कितना इस्तेमाल किया जा सकता हैं ये कोई नेताओ से ही सीखे. १९६४ से लेकर अब तक ६४ पत्रकारों की हत्या कर दी गयी हैं .

Jagendra Singh

 

M M Kalburgi

 

Narendra Dabholkar

 

Rajdev Ranjan

 

Ram Chander Chhatrapati

 

Sandeep Kothari

 

Do not forget to share and let us know your views please write in the comments section below.

Like Us On Facebook : BoomIndya  | Follow Boom Indya On Instagram

Hope you liked this article, if you have any suggestions / feedback regarding this article, mail : [email protected]

Subscribe Boom Indya For  More Awesome Videos

You may also like...